Home »News» On Lashtam Pashtam Releasem Wife Nandita Gave Tribute To Om Puri

ओम पुरी को दूसरी पत्नी ने बेटे के साथ दिया ट्रिब्यूट, कभी लगाए थे मारपीट के आरोप

ओम पुरी ने पहली शादी 1991 में अन्नू कपूर की बहन सीमा कपूर से की थी।

Dainikbhaskar.com | Last Modified - Aug 11, 2018, 11:27 AM IST

ओम पुरी को दूसरी पत्नी ने बेटे के साथ दिया ट्रिब्यूट, कभी लगाए थे मारपीट के आरोप

बॉलीवुड डेस्क.बॉलीवुड एक्टर ओम पुरी को उनकी दूसरी पत्नी नंदिता पुरी ने बेटे ईशान के साथ ट्रिब्यूट दिया। इस मौके पर रवीना टंडन भी पहुंचीं और उन्होंने भी ओम पुरी को श्रद्धांजलि दी। मानव भल्ला के डायरेक्शन में बनी ओम पुरी की आखिरी फिल्म 'लश्टम पश्टम' रिलीज (10 अगस्त) हो चुकी है। आखिरी फिल्म के मौके पर ओम पुरी को एक बार फिर फैमिली ने श्रद्धांजलि दी। ओम पुरी 6 जनवरी 2017 की सुबह अपने फ्लैट पर मृत मिले थे। पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में सामने आया था कि ओमपुरी के सिर में डेढ़ इंच गहरा और 4 सेंटीमीटर लंबा जख्म का निशान था।

कभी ओमपुरी पर पत्नी ने लगाया था पिटाई का आरोप:नंदिता ने 2013 में पति ओमपुरी के खिलाफ पिटाई का आरोप लगाते हुए वर्सोवा थाने में शिकायत दर्ज कराई गई है। उस वक्त ओमपुरी से अलग रह रही नंदिता ने शिकायत में कहा था कि ओमपुरी ने वर्सोवा फ्लैट में छड़ी से उनकी पिटाई की थी। इसी के साथ नंदिता ने ओमपुरी से गुजारा भत्ता देने की भी मांग की थी।
- ओमपुरी के खिलाफ आईपीसी की धारा 324 (मारपीट) धारा 504 (इरादतन अपमानित करना) और धारा 506 (आपराधिक धमकी) के तहत मामला दर्ज किया गया था। मामले के बाद ओमपुरी को भगोड़ा घोषित कर दिया गया है। हालांकि उन्होंने समाचार एजेंसी पीटीआई को बताया था कि नंदिता उन्‍हें निशाना बना रही हैं, मामले की सच्‍चाई कुछ और है।
-ओम पुरी ने पहली शादी 1991 में अन्नू कपूर की बहन सीमा कपूर (डायरेक्टर/राइटर) से की थी लेकिन ये शादी महज 8 महीने में ही टूट गई। फिर 1993 में ओम पुरी ने जर्नलिस्ट नंदिता से शादी की। दोनों का एक बेटा ईशान है।


अधूरी रह गई थी ओमपुरी की आखिरी ख्वाहिश:ओम पुरी ने मौत से पहले अपनी PRO स्मिता सिंह को बताया था कि वे अज्ञातवास के लिए लुंबिनी (नेपाल) जाना चाहते थे और वहीं शरीर छोड़ना चाहते थे। पुरी अपनी नेगेटिव इमेज बनने से भी दुखी थे। स्मिता के मुताबिक, ओम नसीरुद्दीन शाह से आखिरी दिनों में खफा भी थे।
- स्मिता के मुताबिक, "करीब एक हफ्ते से मुझे ओम साहब कह रहे थे- मुझे अज्ञातवास पर लुंबिनी जाना है। जहां गौतम बुद्ध का जन्म हुआ था। मैं 15 दिन के लिए वहां जाऊंगा और किसी को नहीं बताऊंगा कि मैं कहां जा रहा हूं। वहां गांव में रहूंगा, मोमबत्ती और टॉर्च के सहारे गुजारा करूंगा। मैं वहां उसी पेड़ के पास बैठूंगा, जहां गौतम बुद्ध बैठा करते थे। मैं अपने शरीर को वहां त्याग दूंगा।"
- स्मिता ने बताया, “ओम पुरी पॉलिटिक्स में जाना चाहते थे। वे कहते थे- मैं एक पॉलिटिकल पार्टी भी बनाना चाहता हूं, जिसका नाम 'इंसानियत' रखा है। पार्टी के तहत कुछ खास नियम बनाऊंगा, जैसे कि अगर कोई एम्बुलेंस में जा रहा हो तो वो जल्दी से हॉस्पिटल पहुंच जाए।”
“देरी और ट्रैफिक की वजह से उसकी मौत ना हो। इस बात की मोदी जी भी सराहना करेंगे। एक बात और कहना चाहता हूं कि जब मेरी डेथ होगी ना, तो देखना मोदी जी ही पहले इंसान होंगे, जो शोक जताएंगे।” ओम पुरी की मौत के बाद नरेंद्र मोदी ने ट्वीट करके शोक जताया था।

तंगहाली में बीता था बचपन:ओम पुरी को 'अर्ध सत्य' और 'आरोहण' मूवी के किरदार के लिए बेस्ट एक्टर के नेशनल अवॉर्ड से नवाजा गया था।
- 1990 में पद्मश्री भी मिला था। ओम का बचपन तंगहाली में गुजरा था। उनको ढाबे में काम करना पड़ा। यहां तक कि चाय की दुकान में गिलास भी साफ करने पड़े।
- अगस्त, 2014 में ओम पुरी और नसीरुद्दीन शाह एक्टर अनुपम खेर के शो 'द अनुपम खेर शो' में पहुंचे थे, जहां ओम पुरी ने अपनी लाइफ के कई रोचक किस्से शेयर किए थे।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! डाउनलोड कीजिए Dainik Bhaskar का मोबाइल ऐप

Trending

Top
×