Home »News» Amrish Puri Grandson Said Dudu Is My God And I'm Praying Him

मेरे दादू मेरे भगवान थे और मैं उनकी पूजा करता हूं - वरधान पुरी, जल्दी करेंगे बॉलीवुड में डेब्यू

वरधान इशकजादे और दावत-ए-इश्क में हबीब फैसल तथा शुद्ध देसी रोमांस में मनीष शर्मा को असिस्ट कर चुके हैं।

DainikBhakar.com | Last Modified - Aug 08, 2018, 04:46 PM IST

मेरे दादू मेरे भगवान थे और मैं उनकी पूजा करता हूं - वरधान पुरी, जल्दी करेंगे बॉलीवुड में डेब्यू

बॉलीवुड डेस्क. बॉलीवुड में सदाबहार विलेन के नाम से पहचाने जाने वाले अमरीश पुरी के पोते वरधान पुरी ने कहा कि वह अपने दादू को भगवान मानते हैं और उनकी पूजा करते हैं। गौरतलब है कि राजीव पुरी के बेटे वरधान बॉलीवुड में एक्टिंग की शुरुआत करने जा रहे हैं। एक न्यूज वेबसाइट की रिपोर्ट के मुताबिक, वरधान पुरी जयन्ती लाल गाडा के प्रोडक्शन में बनने वाली एक रोमान्टिक-थ्रिलर फिल्म से बॉलीवुड में कदम रखेंगे। इस फिल्म की शूटिंग सितम्बर में शुरू होगी। वरधान इससे पहले इशकजादे और दावत-ए-इश्क में हबीब फैसल के असिस्टेंट के रूप में काम कर चुके हैं। उन्होंने शुद्ध देसी रोमांस के दौरान डायरेक्टर मनीष शर्मा को भी असिस्ट किया था।

अभी ट्रेनिंग ले रहे हैं वरधान :इंटरव्यू में वरधान ने कहा कि जयंती भाई के साथ मुझे एक पीरियड-ड्रामा में काम करना था, लेकिन किसी कारण से वह संभव नहीं हो पाया। इसके बाद उन्होंने मुझे अपनी इस फिल्म के लिए अप्रोच किया तो मैंने तुरंत ही इसके लिए हामी भर दी। उन्होंने कहा कि यह परफॉर्मेंस ओरिएंटेड रोल है और फिल्म हॉलीवुड डायरेक्टर डेविड फिंचर की साइकोलॉजिकल थ्रिलर फिल्म गॉन गर्ल्स के जैसी होगी। वरधान ने आगे कहा कि अभी वह रोल के लिए ट्रेनिंग ले रहे हैं और वर्कशॉप भी अटेंड कर रहे हैं।

मेरे दादू मेरे पहले शिक्षक : वरधान ने खुद को चार्ली चैपलिन, किशोर कुमार और पुरी सीनियर (अमरीश पुरी) का फैन बताया है। उन्होंने कहा कि मैंने अपने ग्रैंडफादर के रूप में अपना पहला शिक्षक पाया था। वरधान ने बताया कि वह अपने दादू को भगवान मानते हैं। उन्होंने कहा कि उनके गुजर जाने के बाद मुझे ऐसा लगा, जैसे मेरे ऊपर से मेरा सुरक्षा कवच हटा लिया गया हो। अमरीश पुरी की विरासत, घातक, मिस्टर इंडिया और दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे वरधान की सबसे पसंदीदा फिल्में हैं।

-वरधान ने बताया कि मैं और मेरे दादू रात के तीन बजे तक दिलीप कुमार साहब, अल पचीनो और रॉबर्ट नीरो की फिल्में देखते थे और द गॉडफादर तथा द शॉशंक रिडेम्प्शन जैसी क्लासिक फिल्मों पर चर्चा भी करते थे।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! डाउनलोड कीजिए Dainik Bhaskar का मोबाइल ऐप

Trending

Top
×