Home »Gossip» Bollywood First Female Superstar Sridevi Does Not Want To Come In Films

श्रीदेवी को मौत के बाद मिला नेशनल अवॉर्ड, कभी फिल्मों के लिए छोड़नी पड़ी थी पढ़ाई

शुक्रवार को हुए 65वे नेशनल फिल्म अवॉर्ड में स्व. श्रीदेवी को बेस्ट एक्ट्रेस के नेशनल अवॉर्ड से नवाजा गया।

DainikBhaskar.com | Last Modified - Apr 13, 2018, 01:41 PM IST

  • श्रीदेवी को मौत के बाद मिला नेशनल अवॉर्ड, कभी फिल्मों के लिए छोड़नी पड़ी थी पढ़ाई
    +3और स्लाइड देखें
    ऊपर फोटो में पेरेंट्स के साथ श्रीदेवी।

    मुंबई. शुक्रवार को हुए 65वे नेशनल फिल्म अवॉर्ड में स्व. श्रीदेवी को बेस्ट एक्ट्रेस के नेशनल अवॉर्ड से नवाजा गया। श्रीदेवी की उनकी आखिरी फिल्म 'मॉम'(2017) के लिए ये अवॉर्ड दिया गया। कम ही लोग जानते हैं कि बेस्ट एक्ट्रेस कहलाने वालीं श्रीदेवी को बचपन में ही उनकी मां फिल्मों में ले आई थीं। शुरुआती दिनों में वे फिल्मों में काम नहीं करना चाहती थीं लेकिन मां के आगे वे कुछ न कर सकीं। कई साल पहले श्रीदेवी ने फिल्मफेयर मैग्जीन को दिए एक इंटरव्यू में कहा था, "मैंने पढ़ाई की जगह फिल्मों को चुना था।" इसलिए श्रीदेवी में चुनी फिल्में...

    - इस इंटरव्यू में श्रीदेवी ने कहा था, "मैं एक अच्छी स्टूडेंट थी मेरे पेरेंट्स ने मुझे एकसाथ पढ़ाई और फिल्मों दोनों में फंसा दिया था। जब हम आउटडोर शूट पर जाते थे टीचर्स भी हमें सपोर्ट करते थे।"
    - "एक प्वॉइंट के बाद ऐसी स्थिति आ गई जब मुझे फिल्मों और पढ़ाई में से एक चीज चुननी थी तब मैं फिल्मों के साथ जाना बेहतर समझा।"
    - श्रीअम्मा यंगर अय्यप्पन यानी श्रीदेवी ने महज चार साल की उम्र में साउथ इंडियन फिल्मों में एंट्री ले ली थी। बतौर चाइल्ड आर्टिस्ट श्रीदेवी ने 'कंदन करूणाई' में भगवान शिव का कैरेक्टर प्ले किया था। इसके अलावा भी उन्होंने कई तेलुगु और तमिल फिल्मों में बतौर चाइल्ड आर्टिस्ट काम किया है।

    श्रीदेवी को मिले ये अवॉर्ड्स
    - श्रीदेवी को 1991 में 'खुदा गवाह' के लिए सिविलियन अवॉर्ड मिला।
    - '1990' में 'चालबाज' और 1992 में 'लम्हे' के लिए उन्हें बेस्ट एक्ट्रेस का फिल्मफेयर अवॉर्ड मिला।
    - 2013 में श्रीदेवी को पद्मश्री से भी सम्मानित किया गया।
    - इसके अलावा भी श्रीदेवी ने साउथ फिल्मफेयर, फिल्म फेयर ग्लैमर एंड स्टाइल, बिग स्टार एंटरटेनमेंट, तमिलनाडू स्टेट फिल्म, स्टारडस्ट, जीसिने सहित कई अवॉर्ड जीते।

    आगे की स्लाइड में पढ़ें- बॉलीवु़ड में डेब्यू के दौरान श्रीदेवी की नहीं आती थी हिन्दी...

  • श्रीदेवी को मौत के बाद मिला नेशनल अवॉर्ड, कभी फिल्मों के लिए छोड़नी पड़ी थी पढ़ाई
    +3और स्लाइड देखें

    श्रीदेवी को नहीं आती थी हिंदी


    - श्रीदेवी ने जब बॉलीवुड में कदम रखा था तो उन्हें हिंदी बोलना नहीं आती थी। 1986 में आई फिल्म 'आखिरी रास्ता' में रेखा ने श्रीदेवी के लिए डबिंग की थी।
    - श्रीदेवी अपने जमाने की इकलौती एक्ट्रेस थीं, जिन्होंने फिल्म की फीस 1 करोड़ से भी ज्यादा ली।
    - उन्होंने 'सदमा' (1983), 'चांदनी' (1989), 'गर्जना' (1991), 'क्षणा क्षणम' (तेलुगु 1991) फिल्मों में गाने भी गाए थे।
    - कई लोगों को लगता है कि श्रीदेवी की पहली हिंदी फिल्म 'जूली' थी, जिसमें उन्होंने लक्ष्मी की छोटी बहन का रोल निभाया था। जबकि सच ये है कि उन्होंने जूली से पहले भी एक हिंदी फिल्म की थी, जिसका नाम 'रानी मेरा नाम' था। इस फिल्म में श्रीदेवी ने हीरोइन के बचपन का रोल किया था।

  • श्रीदेवी को मौत के बाद मिला नेशनल अवॉर्ड, कभी फिल्मों के लिए छोड़नी पड़ी थी पढ़ाई
    +3और स्लाइड देखें

    पिता की मौत के बाद भी जारी रखी थी शूटिंग


    - श्रीदेवी की मातृभाषा तेलुगु थी, जबकि उनके पिता तमिल थे। श्रीदेवी की पहली फिल्म 1967 में 'टुनाईवान' थी। उस वक्त उनकी उम्र 4 साल थी।
    - हॉलीवुड के फिल्ममेकर स्टीवेन स्पीलबर्ग ने श्रीदेवी को अपनी फिल्म 'जुरासिक पार्क' में भी कास्ट करने की बात की थी, लेकिन डेट्स ना होने के कारण श्रीदेवी वो फिल्म नहीं कर पाईं।
    - 1991 में श्रीदेवी ने यश चोपड़ा की फिल्म 'लम्हे' की शूटिंग के दौरान अपने पिता को खो दिया। वो अंतिम संस्कार के लिए भारत आईं और फिर से लंदन जाकर अनुपम खेर और वहीदा रहमान के साथ फिल्म की शूटिंग शुरू कर दी।

  • श्रीदेवी को मौत के बाद मिला नेशनल अवॉर्ड, कभी फिल्मों के लिए छोड़नी पड़ी थी पढ़ाई
    +3और स्लाइड देखें

    जब बोनी ने श्रीदेवी को दी 1 लाख ज्यादा फीस


    - डायरेक्टर सतीश कौशिक ने बताया था कि 1987 में बोनी कपूर ने श्रीदेवी के साथ फिल्म 'मिस्टर इंडिया' और 1993 में 'रूप की रानी चोरों का राजा' बनाई।
    - "अब दोनों के बीच क्या था ये तो वही जानते हैं। बाद में 1996 में बोनी और श्रीदेवी ने शादी कर ली। मैं सिर्फ इतना जानता हूं कि मैडम (श्रीदेवी) बोनी कपूर को पसंद करती थीं। लेकिन तब ये कोई नहीं जानता था कि एक दिन बोनी और श्रीदेवी शादी कर लेंगे।"
    - "कहते हैं कि बोनी कपूर ने जब श्रीदेवी को उनकी मां के सामने फिल्म ऑफर की तो श्रीदेवी की मां ने फीस के तौर पर 10 लाख रुपए मांगे। बोनी कपूर ने 10 के बजाय 11 लाख रुपए श्रीदेवी को दिए थे।"

आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

Trending

Top
×