Home »News» Ranbir Kapoor Starrer Sanju: Sanjay Dutt Said Mosquitoes Bite And Die Right There Because Of Drugs Overdose In Blood

संजू बाबा को काटते ही मर जाते थे मच्छर, ड्रग्स ओवरडोज की कहानी खुद संजय दत्त की जुबानी

रणबीर कपूर स्टारर संजय दत्त की बायोपिक 'संजू' रिलीज हो गई है।

Dainikbhaskar.com | Last Modified - Jun 29, 2018, 12:42 PM IST

    मुंबई. रणबीर कपूर स्टारर फिल्म 'संजू' रिलीज हो गई है। फिल्म में संजय दत्त की जिन्दगी से जुड़ी कई अनसुनी बातों के बारे में बताया गया है। इसी बीच रियलिटी शो 'एंटरटेनमेंट की रात' में पहुंचे संजय दत्त ने भी अपने ड्रग्स डेज का एक किस्सा शेयर किया है। संजय के मुताबिक एक वक्त उनके शरीर में ड्रग्स का इतना ओवरडोज हो चुका था कि उन्हें अगर मच्छर काट लेता था तो मर जाता था।
    संजय ने बताया - , "एक टाइम ऐसा था जब मैं बहुत ज्यादा नशा करता था।" मुझे याद है जब मच्छर मेरा खून पीने आता था तो वो खून पीकर उड़ नहीं पाता था। वो थोड़ी देर तक उसी जगह बैठा रहता था और फिर जमीन पर उल्टा होकर गिर पड़ता था। अब मैं इस बात को याद करता हूं तो मुझे हंसी आती है। आज मैं यंग बच्चों से रिक्वेस्ट करता हूं कि वे ड्रग्स से दूर रहें, क्योंकि फैमिली और करियर से बड़ा कोई नशा नहीं होता।"


    जेल में मुसलमान भाई रखते थे संजय का ख्याल
    - संजय उन दिनों के किस्से सुनाते हुए कहते हैं, "जब भी रमजान का टाइम आता था तो जेल में अलग ही माहौल होता था। मुस्लिम भाइयों के लिए सुबह सहरी में गर्म चाय और नास्ता दिया जाता था। ऐसे में मेरे मुस्लिम भाई मुझे भी उठा लेते थे और कहते थे गर्म चाय मिल रही है चलो पीलो चलकर।"

    जेल में आरजे का काम करते थे संजय
    - बकौल संजय, "जब मैं जेल में था तो वहां पर RJ का काम किया करता था। मैं यरवदा जेल का आरजे रहा हूं जिसकी वजह से कई लोग वहां मेरे फैन बन गए थे। वहां लोगों को मेरी आवाज सुनना बहुत पसंद था। उन्हीं लोगों की वजह से मैं जेल में वक्त बिता पाया।"

    संजय- बच्चे पहले पढ़ाई पूरी करेंगे
    - संजय ने शो में अपने बच्चों के बारे में भी बातचीत की। वे चाहते हैं कि उनके बच्चे पहले पढ़ाई करें, डिग्री लें और बाद में जो बनना चाहेंगे वे उनकी मदद करेंगे।
    - संजय ने अपनी पढ़ाई के बारे में एक बात ये बताई कि वो मैथ्स में बहुत वीक थे। इसलिए वो चाहते हैं कि उनके बच्चे इसमें अच्छा करें। आजकल संजय बच्चों की क्राफ्ट और पेंटिंग में मदद करते हैं।

    Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! डाउनलोड कीजिए Dainik Bhaskar का मोबाइल ऐप

    Trending

    Top
    ×