Home »TV »Latest Masala» Rita Bhaduri Was Not Jaya Bachchan's Sister,Know Some Interesting Facts

सरनेम और चेहरा मिलने की वजह से रीता भादुड़ी को जया बच्चन की बहन समझते हैं लोग, पर नहीं है कोई ऐसा रिश्ता

एक इंटरव्यू में रीता कहा था,'मैं और जया बहनें नहीं हैं। मैं कई सालों से ऐसा सुनती आ रही हूं पर ये सिर्फ संयोग है

Umesh Kumar Upadhayay | Last Modified - Jul 17, 2018, 02:41 PM IST

सरनेम और चेहरा मिलने की वजह से रीता भादुड़ी को जया बच्चन की बहन समझते हैं लोग, पर नहीं है कोई ऐसा रिश्ता

बॉलीवुड डेस्क. मशहूर फिल्म और टीवी एक्ट्रेस रीता भादुड़ी का मंगलवार तड़के मुंबई में 62 साल की उम्र में निधन हो गया। वे काफी समय से किडनी की बीमारी से पीड़ित थीं। तबियत ज्यादा बिगड़ने के बाद वे एक महीने से सुजॉय हॉस्पिटल,मुंबई में भर्ती थीं। उनका अंतिम संस्कार अंधेरी स्थित पारसीवाड़ा, चकाला में हुआ। दिलचस्प है कि दोनों के चेहरे में समानता और एक ही सरनेम होने की वजह से उन्हें जया भादुड़ी (बच्चन ) की बहन समझ लिया जाता है लेकिन, ऐसा बिलकुल नहीं है। एक इंटरव्यू में रीता ने कहा था, 'मैं और जया बहनें नहीं हैं। मैं लम्बे समय से ऐसा सुनती आ रही हूं। लोगों को भ्रम होता है लेकिन हमारा कोई रिश्ता नहीं है। हालांकि, मुझे अब इसकी आदत हो चुकी है।'

रीता का जन्म 4 नवंबर 1955 को लखनऊ में चंद्रिमा भादुड़ी के घर हुआ जबकि जया 9 अप्रैल 1948 को मशहूर मध्यप्रदेश के जबलपुर में लेखक-पत्रकार तरुण कुमार भादुड़ी के घर जन्मीं हैं। इस तरह रीता और जया की उम्र में करीब 7 साल का अंतर है।

नहीं की थी शादी: Dainikbhaskar.com से कुछ समय पहले हुई बातचीत में रीता ने बताया था कि उन्होंने शादी नहीं की है। वे अपने चाचा के साथ मुंबई में रहती हैं। उनसे बड़ी दो बहनें और एक भाई है। भाई रणदेव भादुड़ी और बड़े जीजा वरुण मुखर्जी बॉलीवुड में ही कैमरामैन के तौर पर जुड़े हैं, जबकि बहनें हाउस वाइफ हैं।

- कॉलेज समय से ही उनकी एक्टिंग में रुचि थी। इसलिए, 1971 में उन्होंने ‘फिल्म एंड टेलीविजन इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया’, पुणे में दाखिला लिया। दो साल का कोर्स पूरा करने बाद वे फिल्म इंडस्ट्री में आईं।

पहली साइन की फिल्म थी 'आईना' पर रिलीज 'जूली हुई':रीता की पहली साइन की फिल्म ‘आईना’ थी, पर इसके बाद बनी ‘जूली’ (1975) पहले रिलीज हो गई। इसके बाद मलयालम भाषा की फिल्म ‘कन्याकुमारी’ आई, जिसमें कमल हासन और मुरली दास हीरो थे। टेलीविजन पर उनका ‘बनते बिगड़ते’ पहला सीरियल था, जो दूरदर्शन पर प्रसारित हुआ। इसके बाद ‘मधुरिमा’, ‘खानदान’, ‘अमानत’, ‘काजल’, ‘साराभाई वर्सेस साराभाई’, ‘जमीन आसमान’, ‘गृहलक्ष्मी का जिन्न’, ‘हद कर दी’, ‘अमानत’, ‘हम सब बाराती’, ‘एक महल हो सपनों का’ सहित तमाम धारावाहिकों में काम किया। इन दिनों वे ‘निमकी मुखिया’ में इमरती देवी (दादी) का किरदार निभा रही थीं।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! डाउनलोड कीजिए Dainik Bhaskar का मोबाइल ऐप

Trending

Top
×