Home »Celebs B'day & Anniversary» Birthday Special : Nawazuddin Siddiqui Life Interesting Facts

फिल्म की शूटिंग पूरी होने के बाद आज भी गांव जाकर खेती करते हैं नवाजुद्दीन

बॉलीवुड एक्टर नवाजुद्दीन सिद्दीकी 44 साल के हो गए हैं।

DainikBhaskar.com | Last Modified - May 20, 2018, 12:02 PM IST

    • खेतों के बीच नवाज।

      मुंबई। बॉलीवुड एक्टर नवाजुद्दीन सिद्दीकी 44 साल के हो गए हैं। 19 मई, 1974 को उत्तर प्रदेश के एक छोटे-से कस्बे बुढ़ाना में जन्मे नवाजुद्दीन सिद्दीकी की शक्ल-सूरत किसी भी आम भारतीय जैसी है, लेकिन अदाकारी का हुनर लाजवाब है। तकरीबन 15 साल के संघर्ष के बाद नवाजुद्दीन बॉलीवुड में अपनी पहचान बना पाए। एक जमाने में वॉचमैन रह चुके नवाज आज भी वक्त निकालकर अपने गांव जाते हैं और खेती-बाड़ी भी करते हैं। 'गैंग्स ऑफ वासेपुर' से मिली नवाज को पहचान...

      - नवाज ने करियर की शुरुआत 1999 में आई फिल्म 'सरफरोश' से की। हालांकि इसमें उनका छोटा सा रोल था। इस शुरुआत के बारे में किसी को खबर तक नहीं हुई। साल 2012 तक नवाज ने कई छोटी-बड़ी फिल्मों में काम किया, लेकिन उन्हें कोई खास पहचान नहीं मिली। फिर अनुराग कश्यप उन्हें फैजल बनाकर 'गैंग्स ऑफ वासेपुर' में लाए और फैजल के रोल ने उन्हें घर-घर में पॉपुलर बना दिया। अब जबकि नवाज इंडस्ट्री के टॉप एक्टर्स में शुमार हो चुके हैं, तो लोग यह सोचकर हैरान होते हैं कि आखिर नवाज अपने हर रोल में कैसे ढल जाते हैं?

      जब इस बारे में एक इंटरव्यू में नवाज से पूछा गया था, तो उन्होंने कहा- मैं अपने गांव चला जाता हूं और वहां जाकर अपने खेतों की देखभाल करता हूं। कुछ दिन वहां खेती करते हुए बिताता हूं। नवाजुद्दीन के मुताबिक, ऐसा करने से उनके मन को सुकून मिलता है और इसके बाद वो नए किरदार की तैयारी में जुट जाते हैं।

      9 भाई-बहन हैं नवाजुद्दीन...

      नवाजुद्दीन के मुताबिक, हम सात भाई और दो बहनें हैं। पिता किसान थे। घर में फिल्म का नाम लेना भी अच्छा नहीं समझा जाता था। बल्कि यूं कहें कि ज़िंदगी की लड़ाई इतनी बड़ी रही कि सिनेमा के बारे में सोचने की किसी को फुरसत नहीं थी। हां, जैसी हर मां-बाप की आरज़ू होती है, पापा चाहते थे कि मैं अच्छी तरह पढ़-लिख जाऊं। वे ये तो नहीं समझते थे कि कौन-सी पढ़ाई करनी ठीक होगी, लेकिन हुनरमंद होने के लिए हमेशा प्रोत्साहित करते थे।

      फैक्टरी में जॉब से लेकर वॉचमैन तक की नौकरी की...

      किसी तरह धक्के खाते हुए हरिद्वार की गुरुकुल कांगड़ी यूनिवर्सिटी से साइंस में ग्रैजुएशन किया। फिर भी जॉब नहीं मिली तो दो साल इधर-उधर भटकता रहा। बड़ौदा की एक पेट्रोकेमिकल कंपनी थी, उसमें डेढ़ साल काम किया। वह नौकरी ख़तरनाक थी। तमाम तरह के केमिकल की टेस्टिंग करनी पड़ती थी। फिर जॉब छोड़ दी, दिल्ली चला आया और नई नौकरी तलाश करने लगा। वाचमैन की नौकरी भी की।

      यही वो काम है, जो मैं करना चाहता हूं...

      काम तो मिला नहीं, लेकिन एक दिन किसी दोस्त के साथ नाटक देखने चला गया। प्ले देखकर दिल खुश हो गया। इसके बाद कई नाटक देखे। धीरे-धीरे रंगमंच का जादू सिर चढ़कर बोलने लगा। खुद से कहा- यार! यही वो चीज है, जो मैं करना चाहता हूं। कुछ अरसे बाद एक ग्रुप ज्वाइन कर लिया- साक्षी, सौरभ शुक्ला वगैरह उससे जुड़े थे... तो ऐसे नाटकों से ज़िंदगी जुड़ गई, लेकिन थिएटर में पैसे मिलते नहीं हैं। रोजमर्रा का खर्च चलाना मुश्किल हो रहा था। शाम की रोटी का इंतज़ाम हो सके, इसकी खातिर शाहदरा में वॉचमैन की नौकरी करने लगा।"

      आगे की स्लाइड्स पर, खेतों में काम करते नवाजुद्दीन की कुछ और PHOTOS...

    • फिल्म की शूटिंग पूरी होने के बाद आज भी गांव जाकर खेती करते हैं नवाजुद्दीन
      +3और स्लाइड देखें
      फिल्मों से फुर्सत पाकर गांव में खेती-बाड़ी करते नवाजुद्दीन सिद्दीकी।
    • फिल्म की शूटिंग पूरी होने के बाद आज भी गांव जाकर खेती करते हैं नवाजुद्दीन
      +3और स्लाइड देखें
      खेत में ट्रैक्टर चलाते नवाज।
    • फिल्म की शूटिंग पूरी होने के बाद आज भी गांव जाकर खेती करते हैं नवाजुद्दीन
      +3और स्लाइड देखें
      खेतों के बीच नवाजुद्दीन।
    आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
    दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

    Trending

    Top
    ×