Home »News» Kangana Ranaut Released Yoga Video From London

लंदन के सेंट्रल पार्क में कंगना ने किए कठिन योगासन, जारी किया VIDEO

कंगना अपने दिन की शुरुआत योग से करती हैं। वे करीब 14 साल से योग से जुड़ी हुई हैं।

Amit Karn | Last Modified - Jun 21, 2018, 09:44 AM IST

    - अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर कंगना रनोट किया योगाभ्यास।
    - लंदन से जारी किया अपना योग वीडियो।
    - 'मेंटल है क्या' की शूटिंग के लिए गई हैं लंदन।

    मुंबई.चौथे अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के मौके पर कंगना रनोट ने लंदन से योग का वीडियो जारी किया। इसमें वे वहां के सेंट्रल पार्क में योग के कई कठिन आसन करती नजर आ रही हैं। बता दें कि कंगना लंदन में डायरेक्टर प्रकाश कोवेलामुदी की फिल्म 'मेंटल है क्या' की शूटिंग कर रही हैं, जिसमें उनके को-एक्टर राजकुमार राव हैं। योग के लिए उन्हें शूटिंग से खासतौर पर वक्त निकाला था। कंगना को आते हैं 100 से ज्यादा आसन...

    - कंगना रनोट के योग गुरु सूर्यनारायण सिंह हैं। वे उनसे 14 साल पहले मिली थीं। तब से वे हर दिन योग करती आ रही हैं। कंगना ने 2017 में गुरु दक्षिणा के रूप में सूर्यनारायण सिंह को मुंबई के अंधेरी इलाके में करीब 2 करोड़ रुपए का फ्लैट भी गिफ्ट किया था। कंगना के योगाभ्यास को लेकर सूर्यनारायण सिंह ने बताया, "उन्हें योग के 100 से ज्यादा आसन आते हैं। उनमें से वे रोजाना 35 करती ही हैं। कंगना तब से योग कर रही हैं, जब वे फिल्मों में नहीं आई थीं।"

    एक्शन फिल्मों की शूटिंग के दौरान गुरु को ले जाती हैं साथ

    - सूर्यनारायण सिंह का कहना है कि कंगना योग के आसन सीख चुकी हैं। लेकिन एक्शन फिल्मों की बात हो तो वे उन्हें शूटिंग पर साथ ले जाती हैं। बकौल सूर्यनारायण, " फिल्म 'कृष3' के मौके पर वे मुझे साथ ले गई थीं। 'मणिकर्णिका' के टाइम भी उन्होंने मुझे बुलाया था। तब वे चोटिल हो गई थीं। उनके स्पाइन में प्रॉब्लम हो गई थी। योग के विभिन्न आसनों से वे जल्दी रिकवर हो गईं।" कंगना के करीबियों के मुताबिक, वे इन दिनों खासकर स्टेमिना और ब्रीदिंग कैपेसिटी बढ़ाने वाले योगासन कर रही हैं। इसकी खास वजह है डायरेक्टर अश्वनी अय्यर तिवारी की अपकमिंग फिल्म, जिसमें वे कबड्डी प्लेयर की भूमिका में नजर आएंगी।

    जब कंगना ने कहा था- कम होने लगा था जिंदगी का मोह

    - कंगना रनोट ने एक इंटरव्यू के दौरान कहा था कि उन्होंने ऐसा भी दौर देखा है, जब जिंदगी से उनका मोह कम होने लगा था। कंगना के मुताबिक, इसी बीच उन्होंने स्वामी विवेकानंद और योग के बारे पढ़ा तो आत्मविश्वास जागा। इसके बाद योग को उन्होंने अपनी दिनचर्या का हिस्सा बना लिया। कंगना ने यह भी कहा था कि इसके लिए उन्होंने करीब दो साल तक साध्वी की तरह जिंदगी जी थी।

    Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! डाउनलोड कीजिए Dainik Bhaskar का मोबाइल ऐप

    Trending

    Top
    ×