Home »Flashback» पिता की मर्जी के खिलाफ 18 साल की दिव्या भारती ने की थी शादी, 8 महीने बाद हुई थी मौत,When Divya Bhartis Parents Revealed Her Facts

पिता की मर्जी के खिलाफ 18 साल की दिव्या भारती ने की थी शादी, 8 महीने बाद हुई थी मौत

दिव्या भारती की मौत के बाद मां मीता ने मीडिया को इंटरव्यू दिया था जिसमें उन्होंने उनके बारे में कई बातें शेयर की थीं।

Dainikbhaskar.com | Last Modified - Apr 29, 2018, 02:42 PM IST

  • पिता की मर्जी के खिलाफ 18 साल की दिव्या भारती ने की थी शादी, 8 महीने बाद हुई थी मौत
    +2और स्लाइड देखें
    दिव्या भारती

    दिव्या भारती की मां मीता भारती का पिछले हफ्ते निधन हो गया। उनकी मौत की खबर की पुष्टि दिव्या की बुआ की बेटी कायनात अरोड़ा ने की। DainikBhaskar.com से बातचीत में उन्होंने कहा, "मीता मामी हमारे बीच नहीं रहीं। उनकी किडनी पूरी तरह खराब हो चुकी थीं और शरीर से पानी लीक होने लगा था। उनका ट्रीटमेंट चल रहा था और बीते शुक्रवार रेगुलर चैकअप के लिए उन्हें अस्पताल ले जाया गया था। वहीं उन्होंने अंतिम सांस ली। आपको बता दें कि दिव्या भारती की मौत के करीबन 19 साल बाद यानी 2012 में बाद मीता ने मीडिया को एक इंटरव्यू दिया था जिसमें उन्होंने दिव्या के बारे में कई बातें शेयर की थीं। इस दौरान उनके पति ओपी भारती भी मौजूद थे।

    जानिए इस इंटरव्यू की खास बातें...

    पिता के खिलाफ जाकर की थी शादी

    -मीता के मुताबिक,'एक दिन शोला और शबनम के सेट पर साजिद नाडियाडवाला आए थे और गोविंदा ने उन्हें साजिद से मिलवाया था। तब दिव्या ने उनसे पूछा था-मम्मी आपको साजिद कैसे लगे,मैंने कहा-अच्छे हैं तो वो बोलीं,क्या मैं 18 साल की होते ही साजिद से शादी कर सकती हूं?तो मैंने कहा-पापा से पूछना पड़ेगा। जब पापा को ये बात बताई गई तो उन्होंने इस शादी से इंकार कर दिया। लेकिन,दिव्या नहीं मानी-जिस दिन वह 18 साल की हुईं,उसी दिन उन्होंने साजिद से शादी का फैसला ले लिया।

    -दिव्या ने मुझे फोन किया और कहा,'मां मैं शादी कर रही हूं,आप विटनेस के तौर पर साइन करने आ जाओ,मैंने दिव्या को मना कर दिया कि मैं नहीं आ सकती क्योंकि पापा को इसकी भनक नहीं कि तुम शादी कर रही हो। ये सुनने के बाद उसने कहा,ठीक है आप मत आओ और फिर कुछ घंटों बाद फोन कर बताया कि उसने शादी कर ली है।

    -शादी के एक दिन बाद वह हमारे पास घर वापस आ गई थी क्योंकि उसका कहना था कि पापा को शादी का पता नहीं,ऐसे में साजिद के साथ नहीं आप लोगों के साथ ही रहूंगी। हालांकि,शादी के कुछ महीनों बाद दिवाली के मौके पर साजिद ने घर आकर दिव्या के पिता को बता दिया था कि उन्होंने शादी कर ली है। शादी के आठ महीने बाद दिव्या की मौत हो गई थी।'

  • पिता की मर्जी के खिलाफ 18 साल की दिव्या भारती ने की थी शादी, 8 महीने बाद हुई थी मौत
    +2और स्लाइड देखें
    इंटरव्यू के दौरान दिव्या के पेरेंट्स-ओपी भारती और मीता भारती

    9 वीं क्लास में मिला था पहला ऑफर
    दिव्या का फिल्मों में आने का कोई इरादा नहीं था लेकिन जब वह 9 वीं क्लास में थीं तो प्रोड्यूसर कीर्ति कुमार ने उन्हें फिल्म राधा का संगम के लिए अप्रोच किया था।दिव्या ने इस ऑफर के लिए हां कर दी और स्कूल जाना बंद कर दिया। वह इसकी बजाए डांसिंग,एक्टिंग और क्लासिकल सिंगिंग की क्लासेस में जाने लगीं। दिव्या बहुत फन-लविंग थीं,दोस्तों के साथ लॉन्ग ड्राइव पर जाना,खेलना कूदना,सबसे मिलना जुलना उन्हें बेहद पसंद था लेकिन कीर्ति ऐसा नहीं चाहते थे।वह चाहते थे कि उनकी फिल्म की हीरोइन असल जिंदगी में भी राधा की तरह बिहेव करे और दुनिया के सामने न आए लेकिन दिव्या ने ऐसा करने से मना कर दिया और उनके हाथ से फिल्म निकल गई।उनकी जगह जूही चावला को साइन कर फिल्म की शूटिंग शुरू कर दी गई।इसी दौरान एक क्लब में बोनी कपूर की नजर दिव्या पर पड़ी जो कि प्रेम के लिए एक नए चेहरे की तलाश में थे,दिव्या को अप्रोच किया गया लेकिन बात नहीं बनी और तब्बू को उनकी जगह कास्ट कर लिया गया।इसके बाद सुभाष घई की फिल्म सौदागर के लिए भी दिव्या को अप्रोच किया गया लेकिन फिर मनीषा कोइराला को फिल्म में कास्ट कर लिया गया।

    डिप्रेशन में आ गईं थीं दिव्या
    बार-बार रिजेक्शन मिलने से दिव्या उदास हो गईं थीं और डिप्रेशन में आ गई थीं। ऐसे में पेरेंट्स ने फैसला लिया कि उनके लिए कश्मीर हॉलिडे प्लान किया जाए।दिव्या अपनी मां के साथ कश्मीर निकल गईं। वहां पहुंचते ही उनके पिता ने दिव्या को कॉल करके बताया कि मुंबई में सब उन्हें सर्च कर रहे हैं।फिल्म के ऑफर लिए सब लोग घर आ रहे हैं।दिव्या जब कश्मीर से वापस लौटी तो घर पर साउथ प्रोड्यूसर डी। रामा नायडू को बैठा पाया। नायडू ने दिव्या को बोबिली राजा का ऑफर दिया और उन्होंने कहानी सुनाई। दिव्या को कहानी सुनाने के बाद नायडू ने उनसे कहा,क्या आप आज शाम की फ्लाइट से हैदराबाद चल सकती हैं? हम कल सुबह से शूटिंग करना चाहते हैं। दिव्या ने इस बात को सीरियसली नहीं लिया और अपनी मां से चुपके से कान में कहा,मां अब तक जितने लोग भी आते हैं सब कल से शूटिंग करने की बात कहते हैं और फिर गायब हो जाते हैं। यहां भी यही होगा चूकिं हमने हैदराबाद नहीं देखा है तो चलो घूम कर आ जाएंगे। दूसरे दिन हैदराबाद पहुंचने पर शूटिंग शुरू हो गई और दिव्या बोलीं-ये कहां फंस गए फिर मां ने समझाया कि अब फिल्म गई तो कर लो,ऐसे ही फिल्मों में दिव्या का सफ़र शुरू हो गया। इसके बाद राजीव राय ने उन्हें विश्वात्मा के लिए साइन करने की बात कही आर कहा,तुम कितना साइनिंग अमाउंट लोगी? दिव्या बोलीं-आप बस मुझे गांधीजी का एक नोट दे दो। राजीव उनकी इस बात से इम्प्रेस हो गए।इसी फिल्म के गाने सात समंदर ने दिव्या को बुलंदियों पर पहुंचा दिया।वह माधुरी दीक्षित,श्रीदेवी जैसी एक्ट्रेसेस की तरह टॉप हीरोइनों की लिस्ट में शुमार हो गईं।

  • पिता की मर्जी के खिलाफ 18 साल की दिव्या भारती ने की थी शादी, 8 महीने बाद हुई थी मौत
    +2और स्लाइड देखें
    दिव्या भारती और मीता

    पढ़ाई में नहीं लगता था दिव्या का मन

    मीता ने इस इंटरव्यू में कहा था,'दिव्या बहुत ही मस्तमौला इंसान थीं। खूब हंसना,मस्ती करना,घूमना-फिरना उन्हें बेहद पसंद था। वह अपने भाई कुणाल से बेहद प्यार करती थीं।वह कहीं भी जाती थीं तो कुणाल के लिए कुछ न कुछ जरुर लेकर आती थीं।अपने लिए कार लेने से पहले उन्होंने कुणाल को जीप खरीदकर दी थी। मीता के मुताबिक,'दिव्या पढ़ाई में जीरो थीं। उनके किसी विषय में चार से ज्यादा नंबर नहीं आ पाते थे।10 विषयों में से वह 9 में फेल हो जाती थीं। उन्हें हिंदी में भी काफी परेशानी होती थी और मुझे कहती थीं मम्मी आप जोर-जोर से हिंदी का लेसन पढ़कर सुनाओ,मैं सुनती हूं लेकिन सुनना क्या वो तो शीशे के सामने खड़े होकर 'हिम्मतवाला' के गाने ता थैय्या ता थैय्या गाने पर एक्टिंग करती रहती थीं।

    जीतेंद्र की थीं फैन:दिव्या जीतेंद्र की बहुत बड़ी फैन थीं। वह कहती थीं,'मां,मैं एक दिन जीतेंद्र जी के साथ जरुर कोई फिल्म करूंगी।लेकिन जब वह फिल्मों में आई तो जीतू जी पिता के रोल करने लगे थे। यह बात मैंने (मीता)ने शोभा कपूर(जीतेंद्र की वाइफ)को भी बताई थी कि दिव्या इस बात से बेहद निराश हैं कि उन्हें जीतू जी के साथ रोमांटिक फिल्म करने का मौका नहीं मिल पाएगा।'

    पेरेंट्स बोले-हम भी नहीं जानते,कैसे हुई मौत
    मीता ने इस इंटरव्यू में कहा था,मुझे इस बात का मलाल है कि मैं 5 अप्रैल,1993 को दिव्या के साथ नहीं थी(इसी दिन मौत हुई थी)।मैं अपने भाई के घर पर थी और दिव्या शूटिंग के लिए मद्रास में थीं।मुझे नहीं पता था कि दिव्या मद्रास से वापस मुंबई आ गई हैं।उसी दिन वह दोस्तों और हमारे पुराने पड़ोसियों के साथ शाम बिताने पाली हिल गई हुई थीं।जहां उन्हें साजिद ने कॉल करके कहा कि डिज़ाइनर नीता लुल्ला उनसे फिल्म के कुछ कॉस्टयूम डिस्कस करना चाहते हैं।कुणाल(दिव्या के भाई)ने उन्हें साजिद के घर पर ड्रॉप किया।वह घर पहुंचने ही वाला था कि इतने में कॉल आया कि दिव्या पांचवी मंजिल से गिर गई हैं।इस दौरान क्या और कैसे हुआ,हम भी नहीं जानते। हमने उस दौरान वहां मौजूद नीता और उनके पति कृष्णा लुल्ला से कुछ नहीं पूछा क्योंकि इससे हमें और तकलीफ होती। जो होना था हुआ,हम किसी पर आरोप नहीं लगा सकते।

आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

Trending

Top
×