Home »TV »Latest Masala» Dil Dhoondhta Hai The Novel

अतीत में खुलती खिड़कियों से भविष्य की तलाश - दिल ढूंढता है…!

उपन्यास में तेईस अध्याय हैं। गद्य के साथ बीच बीच में कविताओं का सुन्दर प्रयोग है।

DainikBhaskar.com | Last Modified - Dec 18, 2017, 07:14 PM IST

अतीत में खुलती खिड़कियों से भविष्य की तलाश - दिल ढूंढता है…!

सपनों और हकीकत की कश्ती में सवार हर इंसान जीवन के समंदर में इधर से उधर डोलता रहता है, कभी मंजिल के करीब होता है और कभी कोसों दूर।इसी पाने खोने की जद्दोजहद से जूझता उपन्यास का नायक राहुल , प्रेम की तलाश में अपने आप से दूर जा कर अतीत में गुज़र चुके लम्हों को दोहराता है। उसकी यह तलाश उसके भीतर की कुछ ऐसी उलझी गिरह खोलती है जिसकी उसने कभी कल्पना भी नहीं की थी। राहुल की ये यात्रा एक नए पड़ाव का अद्भुत अनुभव बन कर उभरती है।

उपन्यास में तेईस अध्याय हैं। गद्य के साथ बीच बीच में कविताओं का सुन्दर प्रयोग है।
“ सुन्दर हो तुम इतना कि मन चाँद से पूछता है
तुम जमीं पर आये हो या मैं आस्मां में उड़ रहा हूं”

जीवन में परेशनियों और दुंद के चलते राहुल अपने शहर से दूर बेहद अकेला है और अपने दिल के भीतर प्यार की तलाश को पाने के लिये दिल्ली से शिमला पहुँचता है। वहां अपने जीवन के सभी असफल प्रेमों को याद करते हुए उन प्रेमिकाओं के साथ दोबारा जीने लगता है। जो बाद मतिभ्रम की स्थिति पैदा करता है, और पाठक को चौंकता है। नायक की अधूरी तलाश उसका चैन छीन लेती है और वो खुद को पूरा करने की कोशिश में भटकता रहता है। ये कहानी में रोमांच पैदा करते हैं। पाठक, नायक राहुल के साथ लगातार यात्रा करता है, ये नायक एक आम आदमी है जिसमें मानव सुलभ कमजोरियां व अपनी खूबियाँ भी हैं, यही बात उसे ख़ास बनाती है।

राकेश मढोतरा का ये पहला उपन्यास प्रेम को एक नए सिरे से खोजने और समझने की सुन्दर कोशिश है। राकेश कई धारावाहिकों और टेलीफिल्म्स का लेखन निर्देशन कर चुकें हैं , जिनमें 'दिशाएं' व 'मुलाकात' बेहद चर्चा में रहीं। आजकल भारतीय सिनेमा के मशहूर फिल्म प्रोडक्शन हाउस में सीईओ के पद पर कार्यरत हैं।

इस उपन्यास को पढ़ते हुए हमें विख्यात सूफी दार्शनिक रूमी के उस्ताद शम्स तब्रीजी की बात याद आती रहती है –“चाहे तुम कहीं भी जाओ, पूरब, पश्चिम , उत्तर या दक्षिण। इसे अपने भीतर की यात्रा की तरह सोचो। जो अपने अन्दर की यात्रा कर लेता है वो दुनिया घूम लेता है”।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! डाउनलोड कीजिए Dainik Bhaskar का मोबाइल ऐप
Web Title: atit mein khulti khidekiyon se bhvisy ki tlaash - dil dhundhtaa hai…!
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

Trending

Top
×