Home »Reviews »Movie Reviews» Movie Review: Ye Hai Bakrapur

Movie Review: 'ये है बकरापुर'

dainikbhaskar.com | May 09, 2014, 05:58 PM IST

Critics Rating
  • Genre: ड्रामा
  • Director: जानकी विश्वनाथन
  • Plot: पांच रिलीज़ होने वाली फिल्मों में 'ये है बकरापुर' का नाम भी शामिल है.
कहानी: 'ये है बकरापुर' एक बकरे की कहानी है जिसका नाम शाहरुख़ है। शाहरुख़ एक छोटे से बच्चे जुल्फी का बकरा है। वह उससे बेहद प्यार करता है। जुल्फी एक गरीब परिवार से है इसलिए कुछ कर्ज चुकाने के लिए जब उसके परिवार के पास कोई रास्ता नहीं बचता तो वह शाहरुख़ को बेचने का फैसला करते हैं।
परिवार की यह बात सुनकर जुल्फी बहुत मायूस हो जाता है। उसे समझ नहीं आता कि वह अपने प्यारे बकरे को बिकने से कैसे बचाए? जुल्फी शाहरुख़ को बचाने के लिए जफ़र (आयुष्मान झा) की मदद लेता है।
जफ़र अपना दिमाग चलाता है और शाहरुख़ के ऊपर अरबी भाषा में अल्लाह लिख देता है। बस इतना लिखते ही गजब हो जाता है। लोग जब शाहरुख़ के ऊपर अल्लाह लिखा हुआ देखते हैं तो यह समझने लगते हैं कि बकरा अल्लाह का बंदा है।
गांव में शाहरुख़ को लेकर जंग छिड़ जाती है कि वह हिंदुओं के पास रहेगा या मुसलमानों के पास। इस पूरे मामले से जुल्फी और मुसीबत में फंस जाता है। क्या वह अपने बकरे को धर्म और जाति में बंटे लोगों के चंगुल से छुड़ा पाता है। यही इस फिल्म में दिखाया गया है।
निर्देशन: इसमें कोई शक नहीं कि निर्देशक जानकी विश्वनाथन ने यूनिक सब्जेक्ट पर फिल्म बनाई है। अब तक हम फिल्मों में अलग -अलग धर्म के लोगों को लड़ते-झगड़ते देखा है मगर अब केवल इंसान ही नहीं, एक जानवर के धर्म पर भी एक गांव में जंग होने लगती है। विषय और कोशिश बहुत अच्छी है मगर फिल्म उतनी इंट्रेस्टिंग बन नहीं पाई जितनी बननी चाहिए थी। जानकी फिल्म के विषय के साथ न्याय करने में कहीं कहीं चूक गए जिससे फिल्म में वो बात नहीं आई।
एक्टिंग: एक्टिंग की बात करें तो अंशुमान झा, योशिका वर्मा और सुरुची औलख ने अपने रोल बखूबी निभाए हैं। आसिफ बसरा, फैज खान ने भी बेहतरीन परफॉर्मेंस देने की कोशिश की है। फिल्म में कोई बड़ा स्टार नहीं मगर सारे नए कलाकरों ने फिल्म में अच्छी एक्टिंग से दर्शकों को बांधे रखने की पूरी कोशिश की है।
क्या देख सकते हैं फिल्म?
फिल्म सामाजिक व्यवस्था पर तीखा व्यंग प्रकट करती है। इसमें कोई शक नहीं कि फिल्म का कांसेप्ट शानदार है मगर इस तरह की फिल्में लोग सिनेमा घर में देखना कम ही पसंद करते हैं।अगर आप ऐसी फिल्मों के शौक़ीन हैं तो एक बार इसे देख सकते हैं।
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! डाउनलोड कीजिए Dainik Bhaskar का मोबाइल ऐप
Web Title: movie review: ye hai bakrapur
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

Trending

Top
×