Home »Reviews »Movie Reviews» Movie Review: ‘Oculus’

Movie Review: 'ऑक्यूलस'

dainikbhaskar.com | Apr 11, 2014, 01:15 PM IST

Critics Rating
  • Genre: हॉरर
  • Director: माइक फ्लैनगन
  • Plot: फिल्मी फ्राइडे पर माइक फ्लैनगन के निर्देशन में बनी हॉलीवुड फिल्म 'ऑक्यूलस' रिलीज हो गई है।

आइने के आतंक की कहानी है 'ऑक्यूलस':

‘ऑक्यूलस’ फिल्म की कहानी ऐसे भाई-बहन के इर्द-गिर्द घूमती है, जो पहले तो अपने माता-पिता की रहस्यमई मौत से टूट जाते हैं और फिर इस घटना के तह तक जाने की कोशिश करते हैं।

मिरर (आइने) में मिलता है मौत का राजः

इस फिल्म को 2008 में आई हॉरर फिल्म 'मिरर' की कॉपी समझा जाता है, लेकिन माइक फ्लैनगन की फिल्म में ऐसा कुछ भी नहीं है। ये फिल्म अतीत और वर्तमान के बीच घूमती नजर आती है। इसमें हकीकत और कल्पना की जंग होती है। फिल्म के नायक टिम (ब्रेंटन थवेट्स) और नायिका केली (कैरेन गिलान) अब जवानी की दहलीज पर हैं, लेकिन ये दोनों अपने साथ बचपन में हुई त्रासदी की तह तक जाने की कोशिश करते हैं।

अपने माता-पिता को खोने के गम के साथ जी रहे इन दोनों भाई-बहन को अपने ही घर में लगे मिरर में मौत का मुजरिम नजर आता है। ये वो दौर था, जब केली और टिम अपने तबाह हो चुके बचपन के दर्द को झेल रहे थे। इसके बाद इन्हें तो बस उस ताकत की तलाश थी, जिसने इनका सब कुछ छीन लिया था। अब इस राज पर से किस तरह से पर्दा उठता और केली-टिम को इसके लिए किन-किन दिक्कतों का सामना करना पड़ता है, यह जानने के लिए आपको सिनेमाघर का रुख करना पड़ेगा।

11 साल बाद तहकीकातः

टिम और केली के आबाद से बर्बाद होने के बीच 11 साल का वक्त गुजर जाता है, लेकिन बचपन में मिले इस बड़े गम को वो अब तक नहीं भुला पाए हैं। अब उनकी जवानी में उनकी जिंदगानी का मकसद अपने मां-बाप के कातिलों का पता लगाना है।

डर के बीच ड्रामाः

अपने मकसद को मुक्म्मल करने में लगे ये दोनों भाई-बहन जुझारू तो नजर आते हैं, लेकिन खौफ भी इनका पीछा नहीं छोड़ता है। ये सहम कर भी एक-दूसरे को संभालते हुए मिरर(आइने) की मिस्ट्री का रहस्य सुलझाने में लगे रहते हैं।

एक्टिंगः

ब्रेंटन थवेट्स ने टिम रसेल और कैरेन गिलान ने केली रसेल के रोल को बखूबी निभाया है। पूरी फिल्म के दौरान दोनों का बेहतरीन अभिनय देखने को मिला है। इनके अलावा अन्य कलाकारों ने भी फिल्म में अच्छा काम किया है। फिल्म में कैटी का अभिनय भी तारीफ के काबिल है। उन्होंने फिल्म में मैरी रसेल का रोल प्ले किया है।

निर्देशनः

फिल्म में माइक फ्लैनगन का निर्देशन कमाल का है। उन्होंने सभी कलाकारों से अच्छा काम लिया है। उनकी फिल्म पर शुरुआत से लेकर आखिर तक अच्छी पकड़ देखने को मिली है। हालांकि, कहीं-कहीं फिल्म कुछ भटकी सी लगती है, लेकिन फिल्म के कलाकारों ने उसे अपने अभिनय से हाइलाइट नहीं होने दिया है। फिल्म में माइक ने जबरदस्त लोकेशंस दिखाई हैं, जिसके लिए उनकी तारीफ करनी होगी। वैसे, इस फिल्म में परंपरागत हॉरर फिल्मों जैसा कुछ भी नहीं है और ये फिल्म ट्रेडजी के पुट के साथ सस्पेंस थ्रिलर भी है।

क्यों देखें फिल्म?

अच्छी स्टोरी, अच्छे निर्देशन और कलाकारों के बेहतरीन अभिनय के चलते फिल्म देखी जा सकती है। ट्रेजडी के साथ सस्पेंस का पुट आपको फिल्म के साथ बांधे रखेगा।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! डाउनलोड कीजिए Dainik Bhaskar का मोबाइल ऐप
Web Title: Movie Review: ‘Oculus’
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

Trending

Top
×