Home »Reviews »Movie Reviews» Movie Review: Hate Story 2

Movie Review: 'हेट स्टोरी 2'

dainikbhaskar.com | Jul 18, 2014, 02:45 PM IST

Critics Rating
  • Genre: थ्रिलर ड्रामा
  • Director: विशाल पंड्या
  • Plot: 'हेट स्टोरी 2' को सुशांत सिंह की फिल्म कहें तो कोई अतिशयोक्ति नहीं, क्योंकि फिल्म तो सुरवीन चावला के इर्द-गिर्द घूमती है लेकिन जो थोड़ा बहुत क्रेडिट है उसे सुशांत सिंह ले जाते हैं।
आपने 'मर्डर' देखी है तो यह भट्ट कैंप की उस से ज्यादा बोल्ड फिल्म नहीं है और आपने 'हेट स्टोरी' देखी है तो इसे देखने की जरूरत ही नहीं है। 'हेट स्टोरी 2' बेसिर-पैर की एक कहानी है, जिसे वाहियात जुनून करार दिया जा सकता है। फिल्म देखते हुए कई जगह आपको यही समझ में नहीं आएगा कि पुलिस का रोल होता क्या है। क्या कोई बुरी तरह से जख्मी महिला बिना ट्रीटमेंट के चार हत्याएं कर सकती है? क्या ऐसा संभव है कि महिला का बदला लेने का जुनून इस कदर हो कि वह अस्पताल से भागकर एक-एक कर अपने दुश्मनों को ठिकाने लगा दे और खूंखार दुश्मन आसानी से मरते जाएं? क्या एक गैंगस्टर मिजाज के नेता को मारना इतना आसान है, जबकि उसके सामने महिला की हर वक्त घिग्घी बंधी रहती हो? सनी लियोनी का गाना पिंक लिप्स अचानक कौन-सी उत्तेजना पैदा करने के लिए फिल्म में आता है? यही कुछ सवाल हैं, जो आपको पूरी फिल्म में परेशान करेंगे, क्योंकि इनके जवाब फिल्म सही तर्क के साथ देने में नाकाम साबित होती है।
कहानी:मंदार (सुशांत सिंह) एक बाहुबली नेता है, जिसकी मुंबई में तूती बोलती है। पुलिस- प्रशासन मंदार के इशारे पर चलता है। मंदार अपने दुश्मनों को बेदर्दी से ठिकाना लगाना जानता है। सोनारिका (सुरवीन चावला ) मंदार की रखैल है, जिसका वह जब चाहे इस्तेमाल कर सकता है। सोनारिका के सांस लेने तक पर महंतो का कब्जा है। सोनारिका फोटोग्राफी की पढ़ाई कर रही है। उसी क्लास में अक्षय (जय भानुशाली) भी है। अक्षय और सोनारिका एक-दूसरे से प्यार करते हैं। जाहिर है, दोनों साथ में कुछ वक्त भी बिताते हैं, लेकिन इसका शक मंदार को हो जाता है। वह सोनारिका को पीटता है और उस पर नजर रखने के लिए एक आदमी लगा देता है। इसके बाद सोनारिका फोटोग्राफी क्लास जाना बंद कर देती है। अक्षय जो सोनारिका से बेइंतहा प्यार करता है, उसे किसी तरह से झूठ बोलकर फोटोग्राफी कलास में बुलवाता है और उससे दूरी की वजह पूछता है। जब सोनारिका अक्षय को मंदार के बारे में बताती है, तो वह हंसने लगता है और उससे किसी दूसरे शहर में अपनी जिंदगी बिताने का प्रस्ताव देता है। सोनारिका मंदार की कैद से निकलकर अक्षय के साथ अपनी दुनिया बसाने गोवा आ जाती है, लेकिन मंदार उन्हें ढूंढ लेता है। मंदार अक्षय की हत्या करवा देता है। इतना ही नहीं, मंदार सोनारिका को भी जिंदा ही कब्र में गाड़ देता है, लेकिन वह किसी तरह से बच निकलती है।
अब सोनारिका का एकमात्र लक्ष्य मंदार और उसके चारों लोगों को ठिकाने लगाने का है। आगे की कहानी सोनारिका के इंतकाम लेने की है। इसके बाद वह कैसे एक-एक कर पुलिस को चकमा देकर मंदार के आदमियों को मारती है? क्या वह अक्षय की मौत का बदला लेने में कामयाब होती है? क्या मंदार सोनारिका को मारने में कामयाब हो पाता है? क्या पुलिस सोनारिका को मंदार के आदमियों के मारने का आरोपी साबित कर पाती है? मंदार से सोनारिका कैसे बदला लेगी? इन्हीं सब सवालों के जवाब फिल्म के अंतिम 15 मिनट में मिल जाते हैं।

एक्टिंग:फिल्म की शुरुआत में लगता है कि सुरवीन चावला का अभिनय असरदार है, लेकिन फिल्म के खत्म होने तक भी जब उनके चेहरे के भाव नहीं बदलते तो बचा-खुचा असर भी खत्म होने लगता है। सुरवीन चावला के भाव पूरी फिल्म में एक जैसे हैं, जो पीड़ादायक दृश्यों में तो फबते हैं, लेकिन आक्रोश और सोनारिका की आजादी के दौरान बोर करते हैं। 'हेट स्टोरी' में आपने पाउली डैम का अभिनय देखा है, तो 'हेट स्टोरी 2' में आपको सुरवीन की एक्टिंग औसत दर्जे की ही लगेगी। जय भानुशाली के हिस्से जितने भी सीन आए, वे भी आया-राम गया-राम ही ज्यादा साबित हुए। फिल्म में एकमात्र शख्स सुशांत सिंह के भाव और एक्टिंग दोनों ही शानदार हैं।
डायरेक्शन:विशाल पंड्या का निर्देशन सामान्य है और कमजोर पटकथा उनके निर्देशन पर भी असर डालती है। फिल्म की पटकथा बेहद सामान्य है। विशाल पंड्या के निर्देशन को देखकर लगता है कि उन्हें ही स्क्रिप्ट आधी समझ आई, जिस पर उन्होंने पूरी फिल्म रच डाली।
संगीत: 'हेट स्टोरी 2' का एक गाना 'आज फिर तुम पर प्यार आया...' एकमात्र अच्छा गाना है, जो फिल्म की रिलीज से पहले ही लोगों की जुबान पर चढ़ गया था। इसके अलावा फिल्म का संगीत औसत है। फिल्म में सनी लियोनी का आइटम नंबर 'पिंक लिप्स' कोई जादू पैदा नहीं करता और यह महज जबरन ठूंसा हुआ लगता है।

क्यों देखें: हमारी तो यही सलाह है कि 'हेट स्टोरी 2' के लिए आप अपने पैसे बर्बाद न करें। न तो फिल्म बोल्ड है, जो आपको रोमांचित करे और न ही ढंग की थ्रिलर। सुशांत सिंह की अदाकारी के बूते ही यदि आप ढाई घंटे सिनेमाहॉल में गुजार सकते हैं तो फिर आप जा सकते हैं।
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! डाउनलोड कीजिए Dainik Bhaskar का मोबाइल ऐप
Web Title: Movie Review: Hate Story 2
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

Trending

Top
×