Home »Reviews »Movie Reviews» MOVIE REVIEW : Creature 3D

MOVIE REVIEW : क्रिएचर 3D

dainikbhaskar.com | Sep 12, 2014, 11:09 AM IST

Critics Rating
  • Genre: हॉरर
  • Director: विक्रम भट्ट
  • Plot: भारत की पहली 3D मॉनस्टर साइंस फिक्शन फिल्म, जिससे विक्रम भट्ट ने ऑडियंस को डराने की कोशिश की है।
12 सितंबर (शुक्रवार) को रिलीज हुई है फिल्म 'क्रिएचर 3D', जिसे विक्रम भट्ट ने निर्देशित किया है। वही विक्रम भट्ट जिन्होंने 2002 में 'राज' और 2008 में '1920' जैसी फिल्मों का निर्देशन कर दर्शकों को खूब डराया था। इस बार उनके दिमाग में 3D मॉनस्टर फिल्म के जरिए दर्शकों को डराने का आइडिया दिमाग में आया, लेकिन फिल्म देखने के बाद डर तो नहीं लगता, हां कहीं-कहीं हंसी जरूर आती है।
क्या है फिल्म की कहानी :
कहानी हिमाचल प्रदेश के हिल स्टेशन पर बसे एक गांव से शुरू होती है। यहां अहाना दत्त (बिपाशा बसु) बैंक से लोन लेकर अपना होटल खोलती हैं। होटल की ओपनिंग के दूसरे दिन ही एक हनीमून कपल वहां आता है, जिसमें से लड़के की मौत हो जाती है और लड़की जिंदा बच जाती है। बताया जाता है कि किसी अजीब से जानवर के हमले से उसकी मौत हुई। इस घटना के बाद अहाना के होटल की बदनामी होने लगती है। इस बीच अहाना का ब्वॉयफ्रेंड कुणाल (इमरान अब्बास नकबी) अपने कुछ दोस्तों के साथ वहां आता है और वे एक तेंदुआ को मार देते हैं और अनाउंस करा देते हैं कि गेस्ट्स को मारने वाले जानवर को मार दिया गया है, लेकिन इसके बाद भी होटल में मौतों का सिलसिला जारी रहता है। इस बीच पता चलता है कि गेस्ट्स को मारने वाला कोई जानवर नहीं, बल्कि 10 फीट लंबा ब्रह्मराक्षस है। एक ओर होटल की बदनामी और दूसरी ओर बैंक वाले अहाना पर दबाव डालते हैं कि वे यह होटल उनके नाम कर दें, क्योंकि बदनामी के बीच होटल के न चलने से वह लोन नहीं चुका सकती थी। अहाना बैंकर्स से 10 दिन का समय मांगती है और ब्रह्मराक्षस को मारने के उपायों में लग जाती है। एक प्रोफेसर उन्हें सलाह देता है कि पीपल के पत्तों की राख में गोलियों को नहलाकर यदि ब्रह्मराक्षस को मारेंगे तो वह मर जाएगा, लेकिन यह उपाय असफल रहता है। इस दौरान गांव का सरपंच बताता है कि 70-80 साल पहले एक आदमी ने ब्रह्मराक्षस को मारा था। अब वह तो ज़िंदा नहीं है, लेकिन उसका बेटा है। संभवतः वह भी ब्रह्मराक्षस को मारने का उपाय जानता होगा। सरपंच की बात पर अमल करने के बाद अहाना उस आदमी से मिलने पहुंचती है। वह बताता है कि ब्रह्मराक्षस को मारने के लिए ऐसा हथियार चाहिए, जिसे पुष्कर स्थित ब्रह्मा मंदिर के तालाब में डुबोया गया हो और इसके बाद वह अहाना को एक गन दे देता है, जिसमें सात गोलियां होती हैं। अंत में अहाना और कुणाल को छोड़कर सभी लोग मारे जाते हैं और गन की आखिरी गोली से ब्रह्मराक्षस भी धराशायी हो जाता है।
कैसी है स्टार्स की एक्टिंग :
बिपाशा बसु ने फिल्म में शानदार एक्टिंग की है, लेकिन बाकी स्टार्स अभिनय में फीके नजर आए। यहां तक कि फिल्म का मुख्य विलेन क्रिएचर (जिसे वीडियो एनिमेशन और 3D टेक्नोलॉजी के जरिए तैयार किया गया है) इतना फनी लग रहा था कि उसे देखकर दर्शकों के चेहरे पर डर की जगह हंसी के भाव आ रहे थे।

विक्रम भट्ट का निर्देशन :
विक्रम भट्ट निकले तो थे हॉरर फिल्म बनाने, लेकिन बन गई फनी मूवी। अब उनके डायरेक्शन के बारे में ज्यादा क्या कहा जाए।
देखें या न देखें :

फिल्म उन दर्शकों के लिए तो बिल्कुल भी नहीं है, जो हॉरर फिल्मों के शौकीन हैं। हां, यदि कोई फनी मोमेंट्स देखकर हंसना चाहता है, तो बेशक इसे देख सकता है।
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! डाउनलोड कीजिए Dainik Bhaskar का मोबाइल ऐप
Web Title: MOVIE REVIEW : Creature 3D
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

Trending

Top
×