Home »Reviews »Movie Reviews» Movie Review : Masaan

Movie Review: मसाला फिल्म नहीं, सामाजिक मुद्दों पर बेस्ड है 'मसान'

dainikbhaskar.com | Jul 24, 2015, 11:06 AM IST

Critics Rating
  • Genre: ड्रामा
  • Director: नीरज घायवन
  • Plot: डायरेक्टर नीरज घायवन की फिल्म 'मसान' सिनेमाघरों में रिलीज हो गई है।
फिल्म का नाममसान
क्रिटिक रेटिंग4/5
स्टार कास्टसंजय मिश्रा, ऋचा चड्ढा, श्वेता त्रिपाठी और विक्की कौशल
डायरेक्टरनीरज घायवन
प्रोड्यूसरदृश्यम फिल्म्स, फैंटम फिल्म्स, मैकसार प्रोडक्शंस और सिख्या एंटरटेनमेंट
म्यूजिक डायरेक्टरइंडियन ओसियन
जॉनरड्रामा
डायरेक्टर नीरज घायवन की फिल्म 'मसान' सिनेमाघरों में रिलीज हो गई है। 68वें कान्स फिल्म फेस्टिवल में फेडरेशन इंटरनेशनल प्रेस सिनेमैटोग्राफिक इंटरनेशनल फेडरेशन ऑफ फिल्म क्रिटिक्स (एफआईपीआरईएससीआई) कैटेगरी और अनसर्टेन रिगार्ड सेक्शन में प्रॉमिसिंग फ्यूचर जैसे अवॉर्ड्स जीत चुकी इस फिल्म में नीरज ने दो कहानियों को एक साथ दिखाया है, जिनका आपस में कोई कनेक्शन नहीं है। फिल्म में संजय मिश्रा और ऋचा चड्ढा के अलावा कोई ज्यादा जाना पहचाना चेहरा नहीं है। फिर भी यह ऑडियंस के दिल को छूनेवाली है।

क्या है फिल्म की कहानी

हम पहले ही बता चुके हैं कि इस फिल्म में दो कहानियां हैं। एक कहानी है देवी (ऋचा चड्ढा) की, जो बनारस में अपने पिता विद्याघर पाठक (संजय मिश्रा) के साथ रहती है। एक दिन देवी अपने दोस्त पियूष के साथ एक होटल के रूम में जाती है, जहां पुलिस उसे लैपटॉप पर पोर्न फिल्म देखते पकड़ लेती है। इस घटना के बाद जहां पियूष अपनी कलाई काटकर आत्महत्या कर लेता है। वहीं, करप्ट पुलिस जोर जबरदस्ती कर देवी से सेक्स स्कैंडल में शामिल होने का गुनाह कुबूल करवा लेती है, जिसे रिकॉर्ड कर लिया जाता है। बाद में इस टेप से पुलिस देवी और उसके पिता को ब्लैकमेल करती है और इसे दबाने के लिए मोटी रिश्वत मांगती है।
दूसरी कहानी है श्मशान घाट में काम करने वाले दीपक (विक्की कौशल) की, जो लोअर कास्ट से है। एक दिन दीपक की मुलाकात एक अपर कास्ट लड़की शालू गुप्ता (श्वेता त्रिपाठी) से होती है और धीरे-धीरे दोनों में प्यार हो जाता है। हालांकि, दोनों की जातियों का अंतर उनके मिलन में रुकावट बनता है।
दोनों ही कहानियां किन-किन मोड़ों से होकर गुजरती हैं और कहां खत्म होती हैं, इसके लिए आपको फिल्म देखनी होगी।

नीरज घायवन का डायरेक्शन

नीरज ने दो अलग-अलग कहानियों को बड़ी ही खूबसूरती के साथ एक साथ फिल्म में पिरोया है। ऐसा नहीं है कि बॉलीवुड में पहले कभी ब्लैकमेलिंग और कास्ट डिफरेंस के ऊपर फिल्में नहीं बनी है, लेकिन 'मसान' का स्क्रीनप्ले, नरेशन और हर एपिसोड इतने अच्छे तरीके से पेश किया गया है, जो इसे दूसरी बॉलीवुड फिल्मों से अलग खड़ी करता है। फिल्म के विजुअल्स भी काफी अच्छे हैं।

एक्टिंग

संजय मिश्रा और ऋचा चड्ढा पहले भी कई फिल्मों में अपनी एक्टिंग का लोहा मनवा चुके हैं। 'मसान' में दोनों ने अपने-अपने किरदार को जीवित कर दिया है। विक्की कौशल एक्शन डायरेक्टर श्याम कौशल के बेटे हैं और यह उनकी पहली फिल्म है। हालांकि, फिल्म में उन्हें देखकर आपको महसूस नहीं होगा कि वे पहली बार एक्टिंग कर रहे हैं। श्वेता त्रिपाठी अपने रोल में एकदम फिट बैठी हैं।

संगीत

फिल्म का संगीत कहानी के मुताबिक है। सॉन्ग 'मन कस्तूरी..' पहले ही ऑडियंस के बीच पॉपुलर हो चुका है। बाकी सॉन्ग अपनी जगह ठीकठाक हैं।

देखें या नहीं

मसाला फिल्मों से हटकर यदि आप कोई ऐसी फिल्म देखना चाहते हैं, जो सामाजिक सच्चाइयों को उजागर करती हो तो 'मसान' आपके लिए ही बनी है।
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! डाउनलोड कीजिए Dainik Bhaskar का मोबाइल ऐप
Web Title: Movie Review : Masaan
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

Trending

Top
×