Home »Reviews »Movie Reviews» Dekh Tamasha Dekh

देख तमाशा देख

dainikbhaskar.com | Apr 18, 2014, 04:15 PM IST

Critics Rating
  • Genre: राजनीतिक व्यंग्य
  • Director: फिरोज अब्बास खान
  • Plot: सोशियो-पॉलिटिकल इश्यूज पर आधारित फिल्म 'देख तमाशा देख भी आज रिलीज हुई है।
मुंबई.चेतन भगत के उपन्यास पर आधारित फिल्म '2 स्टेट्स' के साथ सामाजिक-राजनीतिक मुद्दों पर आधारित 'देख तमाशा देख भी आज रिलीज हुई है। फिरोज अब्बास खान निर्देशित इस फिल्म में सतीश कौशिक और गणेश यादव मुख्य किरदार में हैं।
डायरेक्टर ने कुछ दिनों पहले कहा था, “इस फिल्म में दिखाई गई घटनाएं सच्ची हैं। कई साल पहले मुझे एक रिटायर्ड पुलिस आयुक्त ने कहानी सुनाई थी, जिसने मुझे अंदर तक हिला कर रख दिया था। जब मैं अपनी पहली फिल्म बना रहा था, तब भी मुझे यह कहानी फिल्म बनाने के लिए प्रेरित करती थी। अब जाकर मैं इसे बना पाया हूं।”
फिल्म में ऐसी कहानी को दर्शकों के सामने परोसा गया है, जो धार्मिक, सामाजिक, राजनीतिक और मीडिया के विरोधाभासों को उजागर करती है।
कहानी:
फिल्म की कहानी एक आम आदमी के अंतिम संस्कार के इर्द-गिर्द घूमती नजर आती है। किशन नाम का एक हिन्दू युवक धर्म परिवर्तन कर एक मुस्लिम लड़की से शादी करता है। इस दौरान वह अपना नाम हमीद रख लेता है। एक दिन एक नेता का भारी भरकम कट आउट भरभराकर किशन के ऊपर गिर पड़ता है, जिससे उसकी मौत हो जाती है। असली तमाशा यहीं से शुरू होता है। एक ओर हिन्दू जहां उसे किशन बताते हुए जलाने की बात करते हैं, तो वहीं मुस्लिम हमीद बताते हुए दफनाने को बोलते हैं। मामला इतना बिगड़ता है कि अदालत तक पहुंच जाता है। यहां किशन का जन्म, शादी, मृत्यु, यहां तक कि खतने का प्रमाणपत्र अदालत द्वारा मांगा जाता है। कोर्ट के इस आदेश के बाद घटनाएं घटती जाती हैं और सफेदपोशों के नकाब हटते जाते हैं।
निर्देशन :
सभी जानते हैं कि फिरोज अब्बास खान 'गांधी माय फादर' और 'मेरी अमृता' जैसी फिल्मों के लिए नेशनल अवॉर्ड जीत चुके हैं। 'देख तमाशा देख' को उन्होंने कुछ इस तरह निर्देशित किया है कि ऑडियंस सोचने को मजबूर हो जाती है। उन्होंने बिना कोई फ़िल्मी प्रैक्टिकल किए बड़े ही सादगीपूर्ण तरीके से इसे पेश किया है। फिल्म के संवाद और डायलॉग्स बड़ी ही सूझबूझ के साथ लिखे गए हैं।
एक्टिंग :
सतीश कौशिक, विनोद यादव और तनवी आजमी ने काफी शानदार अभिनय किया है। फिल्म में सतीश कौशिक को छोड़कर कोई अन्य नामचीन कलाकार नहीं है, जिसकी कमी दर्शकों को खल सकती है।
देखें या नहीं :
यदि आप सामाजिक और राजनीतिक व्यंग्य पसंद करते हैं, तो आप यह फिल्म देख सकते हैं। 'देख तमाशा देख' का तमाशा एक खास वर्ग के लिए है। यदि आप मसाला फिल्मों के शौकीन हैं, तो यह फिल्म आपके लिए नहीं है।
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! डाउनलोड कीजिए Dainik Bhaskar का मोबाइल ऐप
Web Title: Dekh Tamasha Dekh
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

Trending

Top
×