Home »Reviews »Movie Reviews» Movie Review : Bajrangi Bhaijaan

MOVIE REVIEW: बजरंगी भाईजान

dainikbhaskar.com | Jul 17, 2015, 12:19 PM IST

Critics Rating
  • Genre: ड्रामा
  • Director: कबीर खान
  • Plot: डायरेक्टर कबीर खान ने करीब तीन साल बाद बड़े पर्दे पर वापसी की है।

फिल्म का नाम

बजरंगी भाईजान

क्रिटिक रेटिंग

3.5/5

स्टार कास्ट

सलमान खान, करीना कपूर खान, नवाजुद्दीन सिद्दिकी और हर्षाली मल्होत्रा

डायरेक्टर

कबीर खान

प्रोड्यूसर

सलमान खान, रॉकलाइन वेंकटेश

म्यूजिक डायरेक्टर

प्रीतम चक्रवर्ती, कोमल श्याम और जुलियस पैश्कियाम

जॉनर

ड्रामा

डायरेक्टर कबीर खान ने करीब तीन साल बाद बड़े पर्दे पर वापसी की है। फिल्म है 'बजरंगी भाईजान'। 2012 में कबीर और सलमान की जोड़ी की 'एक था टाइगर' आई थी, जो उस साल की सबसे ज्यादा कमाई करने वाली फिल्म थी और एक बार फिर यह जोड़ी बॉक्स ऑफिस पर सबके सामने है। खास बात यह है कि यह सलमान खान के प्रोडक्शन की पहली फिल्म है। वैसे तो सलमान की फिल्मों में कहानी की उम्मीद कम ही होती है, लेकिन 'बजरंगी भाईजान' आपको निराश नहीं करेगी। जानते हैं फिल्म के बारे में :

क्या है कहानी :

फिल्म की कहानी ट्रेलर से साफ हो चुकी थी। मुन्नी (हर्षाली मल्होत्रा), जो कि एक छह साल की बच्ची है, भटककर किसी तरह पाकिस्तान से भारत पहुंच जाती है। वह किसी को अपने घर का पता भी नहीं बता सकती, क्योंकि बोल नहीं सकती। अपनों की तलाश में इधर-उधर भटक रही मुन्नी की मुलाकात नेक दिल इंसान पवन कुमार चतुर्वेदी उर्फ बजरंगी (सलमान खान) से होती है। बजरंगी मुन्नी को कई शहरों के नाम गिनाते हैं, लेकिन वह इनमें से किसी भी शहर की नहीं है। हालांकि, मुन्नी कुछ ऐसे साइन (नॉन वेज खाना, मंदिर की जगह मस्जिद जाना और पाकिस्तान के मैच जीतने पर तालियां बजाकर नाच उठना) देती है, जिससे बजरंगी को यह पता चलता है कि वह पाकिस्तान की है। अब बजरंगी का एक ही मकसद है, किसी भी तरह मुन्नी को उसके घर तक पहुंचाना। काफी कोशिशों के बाद जब उन्हें पाकिस्तान का वीजा नहीं मिलता तो वे बिना वीजा ही वहां जाने का फैसला करते हैं और उनके इस काम में मदद करता है एक पाकिस्तानी पत्रकार (नवाजुद्दीन सिद्दिकी)। मुन्नी को पाकिस्तान छोड़ने गए बजरंगी को कई मुसीबतों का सामना करना पड़ता है। वे कैसे इनसे निकलते हैं, यह जानने के लिए आपको फिल्म देखनी होगी। बता दें कि फिल्म में बजरंगी और रसिका (करीना कपूर खान) की लव केमिस्ट्री भी देखने को मिलती है।

कबीर खान का डायरेक्शन

कबीर खान ने पहले 'काबुल एक्सप्रेस', 'न्यूयॉर्क' और 'एक था टाइगर' जैसी फिल्मों का निर्देशन किया है और उनके काम को हमेशा सराहना मिली है। 'बजरंगी भाईजान' के जरिए एक बार फिर उन्होंने अच्छे डायरेक्शन का परिचय दिया है। फिल्म की कहानी को उन्होंने पूरी तरह बांधा हुआ है। कहीं भी ऐसा नहीं लगता कि कहानी भटक रही है। कबीर ने एक साफ-सुथरी और एंटरटेनमेंट से भरपूर कहानी दर्शकों के सामने पेश की है।

स्टार्स की एक्टिंग

सलमान खान अपने रोल में एकदम फिट बैठे हैं। सीधे-सादे पवन कुमार चतुर्वेदी के किरदार को उन्होंने बखूबी जिया है। नवाज की एक्टिंग पर संदेह नहीं किया जा सकता। वे एक कुशल एक्टर हैं और इस फिल्म में भी उन्होंने अपनी एक्टिंग से सभी को कायल कर दिया है। करीना कपूर खान ने एक स्कूल टीचर की भूमिका बहुत अच्छे से निभाई है। वे अपने लुक में काफी अच्छी दिखी हैं। फिल्म में सबसे अच्छे काम की बात की जाए तो वह है चाइल्ड आर्टिस्ट हर्षाली मल्होत्रा का। छोटी-सी उम्र में मुन्नी के मूक किरदार को उन्होंने बहुत खूबसूरती के साथ जिया है। उनकी मासूमियत दर्शकों का दिल जीतने में सफल हुई है।


फिल्म का संगीत

फिल्म का संगीत काफी अच्छा है। 'सेल्फी ले ले रे', 'भर दे झोली', 'आज की पार्टी मेरी तरफ से', तू चाहिए' पहले ही पॉपुलर हो चुके हैं। इसके अलावा फिल्म में एक लोकगीत भी है 'आज रंग है', जो ऑडियंस को खूब भाता है। हालांकि, फिल्म में ज्यादा गीतों की मात्रा कहीं न कहीं इसकी गति को प्रभावित करती है।


देखें या नहीं

यदि आप सलमान खान के जबरदस्त फैन हैं, करीना कपूर खान आपकी फेवरेट एक्ट्रेस है और नवाजुद्दीन सिद्दिकी की एक्टिंग के दीवाने हैं तो यह फिल्म आपके लिए है। इसके अलावा हर्षाली मल्होत्रा की क्यूटनेस और खूबसूरत अदाकारी के लिए भी फिल्म देखी जा सकती है। इन सब से हटकर यदि आप लंबे समय से एक ऐसी फिल्म की प्रतीक्षा में हैं, जो भरपूर एंटरटेनमेंट के साथ अच्छा मैसेज भी दे तो आप इसे देख सकते हैं। न देखने के पीछे आपकी अपनी वजह हो सकती हैं।
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! डाउनलोड कीजिए Dainik Bhaskar का मोबाइल ऐप
Web Title: Movie Review : Bajrangi Bhaijaan
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

Trending

Top
×