Home »Reviews »Movie Reviews» Movie Review : Anaarkali Of Aarah

Movie Review: No Means No का मैसेज देती है 'अनारकली ऑफ आरा'

dainikbhaskar.com | Mar 24, 2017, 08:10 AM IST

Critics Rating
  • Genre: सोशल ड्रामा
  • Director: अविनाश दास
  • Plot: फिल्म की कहानी सामाजिक वास्तविकता और दिखाई जाने वाली सच्चाई के इर्द-गिर्द घूमती कहानी है।

क्रिटिक रेटिंग3/5
स्टार कास्टस्वरा भास्कर, पंकज त्रिपाठी, संजय मिश्रा
डायरेक्टरअविनाश दास
प्रोड्यूसरसंदीप कपूर, प्रिया कपूर
म्यूजिकरोहित शर्मा
जॉनर

सोशल ड्रामा

डायरेक्टर अविनाश दास की फिल्म 'अनारकली ऑफ़ आरा' सिनेमाघरों में रिलीज हो गई है। इसके जरिए बिहार के आरा जिले की एक काल्पनिक कहानी को दर्शाने की कोशिश की गई है। यह कहानी भी डायरेक्टर अनिरुद्ध रॉय चौधरी की फिल्म 'पिंक' की तरह 'NO means NO' का मैसेज देती है। कैसी है फिल्म? आइए जानते हैं...

कहानी

यह कहानी बिहार के आरा जिले की रहने वाली स्टेज गायिका चमकी देवी की परफॉर्मेंस से शुरू होती है। अचानक एक एक्सीडेंट में उनकी डेथ हो जाती है, जिसके 12 साल बाद उनकी बेटी अनारकली (स्वरा भास्कर) उसी बैंड के सदस्यों के साथ परफॉर्म करना शुरू करती है। इसके लिए रंगीला (पंकज त्रिपाठी) उसका साथ दिया करता है। लेकिन कहानी में ट्विस्ट तब आता है, जब लोकल दबंग धर्मेंद्र चौहान उर्फ वीसी (संजय मिश्रा) अनारकली के साथ जोर जबरदस्ती करने लगता है। फिर कहानी बिहार से दिल्ली जाती है। अनारकली वीसी के खिलाफ मोर्चा खोल देती है। लेकिन अपनी जंग में उसे कैसे-कैसे हालातों से गुजरना पड़ता है। यह जानने के लिए आपको फिल्म देखनी होगी।

डायरेक्शन

फिल्म का डायरेक्शन और लोकल लोकेशन कमाल की हैं, जो आपको जमीनी हकीकत से जोडे रखती है। साथ ही फिल्म की एडिटिंग भी बहुत ही स्मार्ट तरीके से की गई है, जिसे देखकर नहीं लगता की डायरेक्टर के तौर पर अविनाश की यह पहली फिल्म है। फिल्म की कहानी बहुत ही रॉ और रियल लगती है। हालांकि कुछ भी नया नहीं है। लेकिन पेश करने का ढंग और एक-दूसरे से जुड़ती ककड़ियां आपको बांधे रखती हैं। 113 मिनट की फिल्म में आपको बहुत ही दमदार अभिनय के साथ साथ तरह-तरह की जमीनी सच्चाई भी पता चलती हैं। फिल्म के डायलॉग्स और छोटे-छोटे वन लाइनर्स 'गैंग्स ऑफ़ वासेपुर' की याद दिलाते हैं।

स्टारकास्ट की परफॉर्मेंस

स्वरा भास्कर का काम काफी दिलचस्प और उम्दा है। उन्होंने अपने किरदार को बखूब निभाया है। साथ ही संजय मिश्रा, पंकज त्रिपाठी को देखकर लगता है कि आखिर उन्हें बेहतरीन एक्टर्स क्यों कहा जाता है। बहुत ही कमाल का अभिनय इन दोनों स्टार्स ने किया है। बाकी को-स्टार्स का काम भी अच्छा है।

म्यूजिक

कहानी के लिहाज से फिल्म का म्यूजिक सटीक बैठता है। रामकुमार सिंह और डॉक्टर सागर के लिखे हुए शब्द, गाने में फिट बैठते हैं।


देखें या नहीं

स्टार्स की बेहतरीन एक्टिंग के साथ किसी अच्छी कहानी की तलाश में हैं तो यह फिल्म आपके लिए है।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! डाउनलोड कीजिए Dainik Bhaskar का मोबाइल ऐप
Web Title: Movie Review : Anaarkali of Aarah
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

Trending

Top
×