Home »Hollywood» Charlie Chaplin Life Story

इस एक्टर के थे 2000 से ज्यादा महिलाओं से संबंध, कब्र से गायब हुई थी लाश

dainikbhaskar.com | Apr 17, 2017, 17:28 IST

  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स

तीसरी पत्नी पॉलेट गॉडर्ड के साथ चार्ली चैपलिन।

लंदन. बीते रविवार पॉपुलर एक्टर- कॉमेडियन चार्ली चैपलिन की 128वीं बर्थ एनिवर्सरी थी। 16 अप्रैल 1889 को यूके के वॉलवर्थ (लंदन) में जन्में चार्ली की लाइफ की ऐसी कई बातें हैं, जो ज्यादातर लोग नहीं जानते। मसलन, उनके सेक्शुअल रिलेशनशिप 2000 से ज्यादा महिलाओं के साथ रहे थे। इस बात का जिक्र इंटरनेशनल वेबसाइट डेलीमेल की खबर में किया गया है। खबर के मुताबिक, खुद चार्ली ने अपने सेक्शुअल रिलेशनशिप की बात स्वीकार की थी।दफनाने के बाद कब्र से गायब हो गई थी डेड बॉडी...
- दफनाने के बाद चार्ली की डेड बॉडी का अचानक गायब हो जाना भी खूब चर्चा में रहा था।
- बता दें कि 25 दिसंबर 1977 को चार्ली का निधन हुआ और इसके तीन महीने बाद कब्र से उनकी डेड बॉडी चोरी हो गई।
- इसके पांच सप्ताह बाद पुलिस ने बुल्गारिया के दो मैकेनिक्स को चार्ली की डेड बॉडी चोरी के आरोप में गिरफ्तार किया और 17 मई 1978 को दोनों ने पुलिस को उनकी डेड बॉडी सौंप दी।
- इसके बाद इस तरह की घटनाओं से बचने के लिए चार्ली की बॉडी को उनके घर से करीब 1.5 किमी दूर कंक्रीट के नीचे दफनाया गया।
पिता शराबी बने और बिखर गया परिवार
- चार्ली के पिता चार्ल्स चैपलिन ने हन्ना (चार्ली की मां) से तब शादी की, जब वे पहले से ही एक बच्चे की मां थीं। दोंनों कॉन्सर्ट में गाया करते थे। हालांकि, इससे इतना पैसा नहीं मिलता था कि वे आराम की जिंदगी की जी सकें। बस दो वक्त का खाना नसीब हो जाता था।
- इन कॉन्सर्ट्स में शराब पीना और पिलाना आम बात थी। नतीजतन चार्ली के पिता को शराब की लत लग गई। अब वे फैमिली पर बराबर ध्यान नहीं देते थे। ऐसे में चार्ली की मां हन्ना ने नए दोस्त बनाने शुरू किए। इनमें से वे लियो ड्राइडन नाम के शख्स के बहुत ज्यादा करीब आ गई थीं।
- दोनों का एक बेटा भी हुआ जॉर्ज। कुछ समय तक लियो ने चैपलिन फैमिली की मदद की। लेकिन एक दिन वह आया और अपने बेटे जॉर्ज को लेकर हमेशा के लिए चला गया। इस वक्त तक हन्ना और चार्ल्स का रिश्ता भी टूट चुका था।
लंदन में बीता शुरूआती बचपन
- जब लियो ने हन्ना का साथ छोड़ा, तब चार्ली की उम्र करीब तीन साल थी।
- वे भाई सिडनी और मां के साथ लंदन आ गए। उनकी मां के पास इनकम का कोई साधन नहीं था। कभी-कभी नर्सिंग और ड्रेसमेकिंग का काम मिल जाता था। लेकिन इससे परिवार का गुजारा संभव नहीं था। वहीं, सिडनी की ओर से भी फाइनेंशियल सपोर्ट नहीं मिल पा रहा था।
- ऐसी सिचुएशन में 7 साल के चार्ली को यतीमखाने भेज दिया।
- इसके 18 महीने बाद चार्ली दोबारा अपनी मां से मिले। हालांकि, जुलाई 1898 में हन्ना को फिर अपने बच्चों को लैम्बैथ स्थित यतीमखाने में एडमिट करना पड़ा।
- सितंबर 1898 में पागलपन के दौरे पड़ने के कारण हन्ना को कैन हिल मेंटल असायलम भेजा गया। यह खबर मिलते ही वर्कहाउस ने दोनों बच्चों सिडनी और चार्ली को पिता चार्ल्स के पास भेज दिया।
- 1901 में लीवर की खराबी की वजह से चार्ल्स की मौत हो गई।
- बीच में हन्ना कुछ ठीक हुईं और घर आ गईं, लेकिन 1903 में वे फिर बीमार पड़ गईं और उन्हें फिर से मेंटल असायलम भेज दिया गया। 8 महीने बाद फिर हन्ना को रिलीज किया गया। लेकिन 1905 में वे फिर से बीमार पड़ गईं। इसके बाद 1928 में उनकी डेथ तक वे मेंटल असायलम की केयर यूनिट की निगरानी में रहीं।
आगे की 5 स्लाइड्स में पढ़ें चार्ली की लाइफ से जुड़ी कुछ और बातें...
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! डाउनलोड कीजिए Dainik Bhaskar का मोबाइल ऐप
Web Title: Charlie Chaplin Life Story
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।

Stories You May be Interested in

      Trending Now

      पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

      दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

      * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
      Top