Home »Celebs B'day & Anniversary» Farooq Shaikh Birthday Special : Life Interesting Facts

पहली फिल्म फ्री में करने को राजी हो गया था ये एक्टर, 5 साल बाद मिली थी ये रकम

मशहूर फिल्म एक्टर फारुख शेख जिंदा होते तो आज 70 साल के हो जाते।

DainikBhaskar.com | Last Modified - Mar 25, 2018, 04:45 PM IST

  • पहली फिल्म फ्री में करने को राजी हो गया था ये एक्टर, 5 साल बाद मिली थी ये रकम
    +8और स्लाइड देखें
    दीप्ति नवल के साथ फारुख शेख।

    मुंबई।मशहूर फिल्म एक्टर फारुख शेख जिंदा होते तो आज 70 साल के हो जाते। 25 मार्च 1948 को अमरोली, सूरत में जन्मे फारुख भले ही दुनिया को अलविदा कह चुके हैं, लेकिन उनके बर्थडे पर फैंस उन्हें याद करना नहीं भूलते हैं। फारुख ने न सिर्फ बड़े पर्दे पर, बल्कि छोटे पर्दे पर भी अपनी एक खास पहचान बनाई थी। पर्दे पर उनकी छवि एक सीधे और सरल इंसान की थी। असल जिंदगी में भी फारुख ऐसे ही थे। पहली फिल्म फ्री करने के लिए राजी हो गए थे फारुख...

    ये भी पढ़ें

    Quiz : किस फिल्म में फारुख शेख ने सलमान के बड़े भाई का किरदार निभाया था?


    फारुख शेख ने अपनी पहली फिल्म ‘गर्म हवा’ में मुफ्त में काम करने को हामी भरी थी। रमेश सथ्यू यह फिल्म बना रहे थे और उन्हें ऐसे कलाकार की जरूरत थी, जो बिना फीस लिए तारीखें दे दे। वैसे, इस फिल्म के लिए फारुख शेख को 750 रु. मिले, लेकिन तुरंत नहीं, बल्कि पांच साल बाद।


    दीप्ति नवल के साथ जमी फारुख की जोड़ी...
    फारुख शेख ने साल 1973 में 'गर्म हवा' से एक्टिंग की शुरुआत की थी। यह फिल्‍म हिट हुई थी। इसके बाद उन्‍होंने साल 1977 में आई 'शतरंज के खिलाड़ी', 1979 में 'नूरी', 1981 में 'चश्मे बद्दूर', 1983 में 'किसी से न कहना' में शानदार अभिनय किया था। फारुख शेख ने दीप्ति नवल के साथ काफी फि‍ल्मों में काम किया था।


    पांच भाई-बहनों में सबसे बड़े थे फारुख...
    वह अपने पांच भाई-बहनों में सबसे बड़े थे। उनके पिता मुस्तफा शेख मुंबई के एक फेमस वकील थे और मां फरीदा शेख हाउसवाइफ थीं। मुंबई के सेंट मैरी स्कूल में फारुख ने पढ़ाई की। यहां वह पढ़ाई के साथ तमाम नाटकों और खेलकूद की गतिविधियों में भी हिस्सा लेते थे। फारुख ने हमेशा कहा कि उनके अंदर जो संस्कार और सादगी आई, वह उनके पिता के व्यक्तित्व की देन थे।


    आगे की स्लाइड्स पर क्लिक करें और जानें, फारुख से जुड़ी कुछ और खास बातें....

  • पहली फिल्म फ्री में करने को राजी हो गया था ये एक्टर, 5 साल बाद मिली थी ये रकम
    +8और स्लाइड देखें
    रेखा के साथ फारुख शेख।

    इन फिल्मों ने दिलाई फारुख शेख को पहचान

    उमराव जान : -साल 1981 में आई इस फिल्‍म को राष्‍ट्रीय फिल्‍म अवॉर्ड से पुरस्कृत किया गया था। इसमें फारुख ने नवाब सुल्तान का किरदार निभाया था, जो रेखा के प्यार में पड़ जाता है। हालांकि, बाद में वे अपने परिवार के दबाव में आकर रेखा से रिश्ता तोड़ देते हैं। इस फिल्‍म के सारे गाने मशहूर हुए थे।
    साथ-साथ : - साल 1982 में आई इस फिल्‍म में फारुख शेख ने दीप्ति नवल के साथ अभिनय किया था। इस फिल्‍म में फारुख शेख ने अविनाश नाम के एक व्‍यक्ति का किरदार निभाया था, जो पढ़ाई के दौरान कमाई पर यकीन रखता था। इस फिल्‍म में जगजीत सिंह की गजल, 'तुमको देखा तो ये ख्‍याल आया...' काफी मशहूर हुई थी।

  • पहली फिल्म फ्री में करने को राजी हो गया था ये एक्टर, 5 साल बाद मिली थी ये रकम
    +8और स्लाइड देखें
    रवि और राकेश बेदी के साथ फारुख।
    इन फिल्मों ने दिलाई फारुख शेख को पहचान

    चश्‍मे बद्दूर : - साल 1981 में आई इस रोमांटिक कॉमेडी फिल्‍म ने बॉक्‍स ऑफिस पर काफी धमाल मचाया था। इस फिल्‍म में फारुख शेख के साथ दीप्ति नवल ने काम किया था। इस फिल्‍म का गाना 'कहां से आए बदरा...' काफी मशहूर हुआ था।
    नूरी : - साल 1979 में आई इस फिल्‍म में फारुख शेख ने पूनम ढिल्‍लो के साथ काम किया था। इस फिल्‍म में फारुख ने यूसुफ का किरदार निभाया था। मुख्‍य रूप से त्रिकोणीय लव स्‍टोरी पर आधारित इस फिल्‍म ने 1980 में चार श्रेणियों में फिल्‍म फेयर अवॉर्ड जीता था। इस फिल्‍म का गाना 'आजा रे ओ मेरे दिलबर आ जा...' काफी मशहूर हुआ था।
  • पहली फिल्म फ्री में करने को राजी हो गया था ये एक्टर, 5 साल बाद मिली थी ये रकम
    +8और स्लाइड देखें
    दीप्ति नवल के साथ फारुख शेख।
    बड़े पर्दे के साथ छोटे पर्दे पर भी छाए

    फारुख शेख ने 90 के दशक से फि‍ल्मों में काम करना कम कर दिया था और टीवी की ओर रुख कर लिया। इस दौरान उन्‍होंने सोनी चैनल पर 'चमत्‍कार' और स्‍टार प्‍लस चैनल पर 'जी मंत्रीजी' जैसे धारावाहिकों में काम किया था। हालांकि, वे इससे पहले 1985 से 1986 के दौरान 'श्रीकांत' नामक टीवी धारावाहिक में काम कर चुके थे। इसके अतिरिक्‍त उन्‍होंने 'जीना इसी का नाम है' नामक धारावाहिक को भी होस्‍ट किया। इसमें उन्‍होंने विभिन्‍न क्षेत्र से जुड़ी कई नामी हस्तियों का इंटरव्‍यू लिया था।
  • पहली फिल्म फ्री में करने को राजी हो गया था ये एक्टर, 5 साल बाद मिली थी ये रकम
    +8और स्लाइड देखें
    शबाना आजमी के साथ फारुख शेख।
    विवादों से कभी नहीं घिरे

    फारुख बॉलीवुड और टीवी के ऐसे कलाकार थे, जो कभी विवादों में नहीं फंसे। लंबे फिल्मी करियर में फारुख का नाम कभी किसी एक्ट्रेस से नहीं जुड़ा। वह एकदम पारिवारिक इंसान थे। धर्म और जाति के नाम पर बंटवारे या भेदभाव उन्हें कभी गवारा न थे। फारुख कहते थे कि यह जिंदगी एक उत्सव है और अपने रियलिटी शो ‘जीना इसी का नाम है’ में “मैं जिंदगी का ही जश्न मना रहा हूं”। छोटे-बड़े पर्दे पर लंबे समय तक अभिनय का जलवा बिखरने वाले फारुख शेख का 27 दिसंबर 2013 को निधन हो गया।
  • पहली फिल्म फ्री में करने को राजी हो गया था ये एक्टर, 5 साल बाद मिली थी ये रकम
    +8और स्लाइड देखें
    फारुख शेख।
    अच्छे क्रिकेटर थे फारुख

    फारुख स्कूल के दिनों में न सिर्फ क्रिकेट के दीवाने थे, बल्कि वह खुद भी बेहतरीन क्रिकेटर थे। उन दिनों भारत के फेमस टेस्ट क्रिकेट प्लेयर वीनू मांकड़ सेंट मैरी स्कूल के दो सर्वश्रेष्ठ क्रिकेटरों को हर साल कोचिंग देते थे और हर बार उनमें से एक फारुख ही हुआ करते थे। जब वह सेंट जेवियर कॉलेज में पढ़ने गए, तो उनका खेल और निखरा।
  • पहली फिल्म फ्री में करने को राजी हो गया था ये एक्टर, 5 साल बाद मिली थी ये रकम
    +8और स्लाइड देखें
    सईद जाफरी के साथ फारुख।
    वकील बनना चाहते थे फारुख

    फारुख अपने पिता की राह पर चलते हुए वकील ही बनना चाहते थे, इसलिए उन्होंने वकालत की पढ़ाई की। मुंबई के सिद्धार्थ कॉलेज ऑफ लॉ से उन्होंने कानून की पढ़ाई की, लेकिन वकील बनने के बाद जल्द ही उन्हें इस बात का एहसास हुआ कि यह पेशा उनके जैसे इंसान के लिए ठीक नहीं है। फारुख का मानना था कि कई मामलों के फैसले अदालत में नहीं, बल्कि पुलिस थानों में तय होते हैं। इसी के बाद ही उन्होंने एक्टिंग को तवज्जो देनी शुरू की।
  • पहली फिल्म फ्री में करने को राजी हो गया था ये एक्टर, 5 साल बाद मिली थी ये रकम
    +8और स्लाइड देखें
    एक फिल्म के दौरान को एक्ट्रेस के साथ फारुख शेख।
    कॉलेज में मिली लाइफ पार्टनर

    फारुख शेख अपने कॉलेज के दिनों को हमेशा शिद्दत से याद करते थे। वहां उनके दोस्तों का बड़ा ग्रुप था। यहीं उनकी मुलाकात रूपा जैन से हुई, जो बाद में उनकी लाइफ पार्टनर बनीं। फारुख और रूपा ने नौ साल तक एक-दूसरे से मेल-मुलाकातों के बाद शादी का फैसला लिया था।
  • पहली फिल्म फ्री में करने को राजी हो गया था ये एक्टर, 5 साल बाद मिली थी ये रकम
    +8और स्लाइड देखें
    टीम मेंबर्स के साथ फारुख।
    पैसों के पीछे कभी नहीं भागे

    फारुख शेख अच्छे परिवार से जरूर थे, लेकिन पिता के निधन के बाद, उन्होंने छोटे भाई-बहनों की जिम्मेदारी को अपने कंधों पर उठाया। उन्होंने रेडियो और टीवी पर कार्यक्रम किए, लेकिन सिर्फ पैसों की खातिर फिल्मों में काम करना उन्हें मंजूर नहीं था। इसलिए, जिस जमाने में एक्टर एक साथ कई फिल्में साइन करते थे, फारुख एक बार में दो से ज्यादा फिल्मों में काम नहीं करते थे। साल 1978 में आई फिल्म नूरी की जबरदस्त कामयाबी के कुछ महीनों के बाद उनके पास 30 से ज्यादा फिल्म के ऑफर आए थे, लेकिन उन्होंने सारे ऑफर ठुकरा दिए क्योंकि सब फिल्म ‘नूरी’ की ही तरह थे।

आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

Trending

Top
×