Home »Gossip» Actor Amit Bimrot Feels Blessed To Debut In Ajay Devgn Starrer Raid

छोटे से गांव में रहता है ये शख्स,एक कॉल आया और अजय की फिल्म में ऐसे मिला बड़ा रोल

फिल्म में उन्होंने इन्कम टैक्स इंस्पेक्टर सतीश मिश्रा का किरदार निभाया है।

चण्डीदत्त शुक्ल | Last Modified - Mar 16, 2018, 11:17 AM IST

  • छोटे से गांव में रहता है ये शख्स,एक कॉल आया और अजय की फिल्म में ऐसे मिला बड़ा रोल
    +1और स्लाइड देखें
    फिल्म रेड के एक सीन में अमित बिमरोत और अजय देवगन

    अजय देवगन की हालिया रिलीज `रेड' से अलवर (राजस्थान) निवासी अमित बिमरोत ने भी सिल्वर स्क्रीन पर एंट्री कर ली है। फिल्म में उन्होंने इन्कम टैक्स इंस्पेक्टर सतीश मिश्रा का किरदार निभाया है। एक कॉल ने बदली अमित की लाइफ...

    अमित बताते हैं, `ज़िंदगी में सब `डेस्टिनी' ने तय किया है।' पिछले साल 12 सितंबर की शाम, गजेंद्र श्रोत्रिय निर्देशित फिल्म `कसाई' की लोकेशन तलाशने वे मुंबई से जयपुर के लिए निकले। अमित `कसाई' के एसोसिएट डायरेक्टर हैं। जयपुर पहुंचे ही थे कि `रेड' की टीम से फोन आ गया, `तुरंत लखनऊ पहुंचिए, आपको एक्ट करना है!'


    अमित ने बताया, `मैंने ऑडिशन तो दिया था, एक छोटे-से कैरेक्टर के लिए कॉल आने की बात भी थी, लेकिन फोन पर पता चला कि अब बड़ा रोल मिल रहा है। अजय जी के साथ चुने गए एक्टर ने ऐन मौके पर मना कर दिया था। मैं ऑडिशन में सेकेंड च्वायस था, इसलिए डायरेक्टर राजकुमार गुप्ता ने झटपट बुला लिया!' उन्होंने कहा, `फिल्म में कई इंटेंस दृश्य अजय देवगन और मेरे बीच हैं। रेलवे से सेवानिवृत्त पापा गोविंद सहाय मीणा को फिल्मों का शौक नहीं है, इसलिए जब उन्हें बताया कि मैं अजय देवगन के साथ काम कर रहा हूं तो जवाब मिला - `अमिताभ के संग मौका नहीं मिला? मैं कह रहा था न कि कोई और काम करो।'
  • छोटे से गांव में रहता है ये शख्स,एक कॉल आया और अजय की फिल्म में ऐसे मिला बड़ा रोल
    +1और स्लाइड देखें
    अमित बिमरोत और अजय देवगन

    होममेकर मां केशंती देवी ने हौसला बढ़ाया। वैसे, एक दिन घर पर कुछ रिश्तेदार आए और उन्होंने `रेड' में कास्ट किए जाने पर बधाई दी, तब पापा को लगा कि बेटा सही राह पर है।'


    टॉम ऑल्टर की अंतिम शॉर्ट फिल्म `सिम्मी' के निर्माता-निर्देशक अमित िबमरोत ने बताया कि कॉमर्स कॉलेज, जयपुर से एकाउंटेंसी में ऑनर्स कर रहा था।

    हालात ऐसे बिगड़े कि एक पेपर में फेल होने के बाद डिप्रेशन में चला गया। दोस्त ने सलाह दी कि तुम थिएटर ज्वाइन कर लो। सचमुच, नाटकों की दुनिया ने जादू कर दिया। हर दिन पांच घंटे थिएटर को दिए। सीए की पढ़ाई में भी सेकेंड रैंक हासिल किया। इस बीच समझ में आ गया था कि टेकवांडो (शोलापुर में नेशनल्स खेला, कोरिया से ब्लैक बेल्ट होल्डर) और कॉमर्स की पढ़ाई से अलग, एक्टिंग की फील्ड में खुशी मिलेगी।

    तय कर लिया था कि फिल्म एंड टेलीविजन इंस्टीट्यूट, पुणे ही जाना है। 2012 में एफटीआईआई के एडमिशन टेस्ट में टॉप किया। अमिताभ बच्चन ने 25 हजार रुपए स्कॉलरशिप में दिए। आखिरकार, अमित मुंबई आए और काम तलाशने लगे। पांच साल के स्ट्रगल के बीच डायरेक्शन, राइटिंग और प्रोडक्शन की फील्ड में भी हाथ आजमाए और फिर एक दिन, एक कॉल ने ज़िंदगी की दिशा बदल दी।

आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

Trending

Top
×