Home »News» Play Nautanki Raja Musical Stage Show

नौटंकी राजा: समाज-राजनीति पर कटाक्ष

छह बार पहले भी किया जा चुका है यह नाटक, इस बार नए इंप्रोवाइजेशन के साथ हुआ मंचन राजा लाओ।

dainikbhaskar.com | Last Modified - Jan 01, 2018, 10:37 AM IST

नौटंकी राजा: समाज-राजनीति पर कटाक्ष

नौटंकी राजा: समाज-राजनीति पर कटाक्ष
छह बार पहले भी किया जा चुका है यह नाटक, इस बार नए इंप्रोवाइजेशन के साथ हुआ मंचन राजा लाओ, राजा लाओ, एक सॉलिड सा राजा लाओ, देखने में हीरो हो, काम में न जीरो हो, पेट में रोटी डाले रोटी जो, काम हमको बाटे जो। इस गीत के साथ ही शुरुआत होती है नाटक ‘नौटंकी राजा’ की। बेला एवं गाथा थिएटर ग्रुप की ओर से इस नाटक का मंचन रविवार शाम मंडी हाउस स्थित एलटीजी ऑडीटॉरियम में किया गया। युवा लेखक एवं पत्रकार अनुज खरे द्वारा लिखित, रंगकर्मी भूपेश जोशी का डायरेक्ट किया गया यह नाटक देश की राजनीतिक और सामाजिक दशा पर करारा कटाक्ष है। भूपेश बताते हैं, यह नाटक आज के वक्त के लिए पूरी तरह रेलेवेंट है। आज सामाज और राजनीति की जो हालत है, यह नाटक उस पर व्यंग्य कसता है।

खूब हंसाता है नाटक
डेढ़ घंटे के नाटक को बेहद खूबसूरती के साथ लिखा गया है। खासतौर पर नाटक में कॉमेडी एलिमेंट के लिए दमदार डायलॉग्स डाले गए हैं। नाटक को डिजाइन भी खूबसूरती के साथ किया गया है। जहां एक तरफ कड़ी दर कड़ी सीन चलते हैं वहीं सीन के साथ सीन का अनोखा इंटरप्रिटेशन भी सुनने को मिलता रहता है।

रोचक है कहानी
नाटक में नौटंकीपुर राज्य की कहानी दिखाई गई है। इस राज्य के राजा का देहांत हो जाता है। नए राजा के चुनाव के लिए सलेक्शन कमेटी विदूषक को पूरे राज्य का भ्रमण कर नया राजा खोजने का काम देती है। इसके लिए विदूषक कभी बाबा तो, कभी स्टूडेंट्स, तो कभी क्लबिंग करने वाले पढ़े-लिखे वर्ग के पास पहुंचता है।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! डाउनलोड कीजिए Dainik Bhaskar का मोबाइल ऐप

Trending

Top
×