Home »News» Now Sanjeevani Is Doing Devotional Songs And Music Concerts

फिल्ममेकर्स ने बंद किया इस सिंगर को अप्रोच करना, अब कर रही हैं ये काम

सिंगिंग रियलिटी शो 'सारेगामापा' के फर्स्ट सीजन की विनर रह चुकीं, संजीवनी भेलांडे।

Onkar Kulkarni | Last Modified - Jan 22, 2018, 08:11 PM IST

  • फिल्ममेकर्स ने बंद किया इस सिंगर को अप्रोच करना, अब कर रही हैं ये काम
    +3और स्लाइड देखें

    मुंबई। सिंगिंग रियलिटी शो 'सारेगामापा' के फर्स्ट सीजन की विनर रह चुकीं, संजीवनी भेलांडे की पॉपुलैरिटी ने उन्हें बॉलीवुड में किस्मत आजमाने का मौका दिया। म्यूजिक डायरेक्टर ए आर रहमान, हिमेश रेशमिया से लेकर फिल्ममेकर विधु विनोद चोपड़ा के साथ इन्होंने काम किया है। इन्होंने फिल्म 'करीब' (1998) के लिए 'चोरी-चोरी जब नजरें मिली' और 'चुरा लो ना दिल मेरा सनम' जैसे सॉन्ग गाए थे। इनके अलावा इन्होंने 'क्या दिल ने कहा' (2002) के लिए 'निकम्मा किया इस दिल ने' भी गाया है। लेकिन अब ये लाइमलाइट से दूर हैं...

    - फिलहाल, संजीवनी डिवोशनल सॉन्ग गाने के अलावा म्यूजिक कॉन्सर्ट में गाती हैं। संजीवनी बताती हैं, "आजकल फिल्ममेकर्स उन्हें अप्रोच ही नहीं करते हैं। हो सकता है कि शायद अब मैं उनके दिमाग में ही नहीं हूं, क्योंकि मैं सोशल कम हूं। जब में 90S के आखिर और 2000 की शुरुआत में हिंदी फिल्मों के लिए गाया करती थी, तब भी मैं इंडस्ट्री से बहुत मिक्स नहीं होती थी।मुझे ऐसा लगता है मैंने जैसा चाहा वैसा बॉलीवुड से नहीं मिला। सुनिधि चौहान या श्रेया घोषाल जैसे सिंगर्स को ध्यान में रखकर ही सॉन्ग तैयार किए गए हैं। ये जो भी ट्रैक गा रही हैं वो उन्हें सूट करता है, लेकिन ऐसा मेरे साथ नहीं हुआ।"

    काम के बीच इंटरफेयर भी कम नहीं रहा

    - संजीवनी कहती हैं "किसी सिंगर का सॉन्ग हिट होता है तो सभी उसके पीछे भागते हैं। लेकिन जब बात म्यूजिक की होती है तो सिंगिंग की भी अपनी लिमिटेशंस होती हैं। उदाहरण के लिए अगर मैं अगर कोई बॉलीवुड नंबर किसी रिकॉर्डिंग स्टूडियो में गा रही हूं तो मैं मुरकी (तान) भी जोड़ना पसंद करती हूं, लेकिन म्यूजिक डायरेक्टर और प्रोड्यूसर बीच में इंटरफेयर करते हैं। और बोलते हैं, अरे ये तो ज्यादा क्लासिकल हो गया। ऐसा मत करो। किसी को पसंद नहीं आएगा। लेकिन हम ऐसे देश में रहते हैं जहां 'लगा जा गले', 'लागा चुनरी में दाग' जैसे सॉन्ग्स पसंद किए जाते हैं। तो वो ऐसा कैसे सोच सकते हैं?" बता दें कि इसके बाद ही संजीवनी ने डिवोशनल सॉन्ग्स का मार्केट एक्सप्लोर किया और अब तक ये सैकड़ों गाने गा चुकी हैं। संजीवनी कहती हैं, "गाने की भूख गायकी वाले गानों से ही पूरी होती है ना कि फिल्मी म्यूजिक से।"

    अगली स्लाइड्स में देखें कुछ और फोटोज...

  • फिल्ममेकर्स ने बंद किया इस सिंगर को अप्रोच करना, अब कर रही हैं ये काम
    +3और स्लाइड देखें

    100 से ज्यादा डिवोशनल ट्रैक गाए हैं

    इन्होंने ऑनलाइन धार्मिक चैनल के लिए अब तक तकरीबन 100 ट्रैक्स कम्पोज किए और गाए हैं, जिसमें हनुमान चालीसा, कृष्ण भजन और आरती भी शामिल हैं। इनके अलावा ये कई रीजनल एलबल भी गा चुकी हैं। इन्होंने अपनी बुक और सीडी 'मीरा एंड मी' में मीरा बाई की कई कविताएं इंग्लिश में ट्रांसलेट की है।

  • फिल्ममेकर्स ने बंद किया इस सिंगर को अप्रोच करना, अब कर रही हैं ये काम
    +3और स्लाइड देखें

    फिल्ममेकर से कर रही हैं उम्मीद

    संजीवनी मानती हैं "अरिजीत सिंह के आने के बाद से इंडस्ट्री में काफी बदलाव देखने को मिले हैं। ये मेरे टाइप के सिंगर हैं। मैं इन्हें बहुत पसंद करती हूं। इनका गाया 'लाल इश्क' (गोलियों की रासलीला राम-लीला) और 'आयत' (बाजीराव मस्तानी) मुझे बहुत पसंद है। अपने कॉन्सर्ट में भी मैं ये सॉन्ग्स गाती हूं। मेरी आवाज हर एक्ट्रेस के साथ सूट हो सकती है। उम्मीद करती हूं कि फिल्ममेकर्स बॉलीवुड म्यूजिक के लिए कभी मेरे बारे में भी सोचेंगे। मैंने हाल ही में सोनम कपूर के एक सॉन्ग की कुछ लाइन्स गाई हैं। आशा करती हूं कि आगे और भी अवसर मिलेंगे"

  • फिल्ममेकर्स ने बंद किया इस सिंगर को अप्रोच करना, अब कर रही हैं ये काम
    +3और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

Trending

Top
×