Home »News» Mother Of This Business Man Still Washes Utensils

बिजनेसमैन बेटे की जिंदगी पर बन चुकी है फिल्म, मां अब भी धोती है शादियों में बर्तन

हॉलीवुड मूवी 'लॉयन' 2017 में ऑस्कर अवॉर्ड के लिए नॉमिनेट हुई थी।

DainikBhaskar.com | Last Modified - Mar 04, 2018, 12:13 AM IST

  • बिजनेसमैन बेटे की जिंदगी पर बन चुकी है फिल्म, मां अब भी धोती है शादियों में बर्तन
    +8और स्लाइड देखें
    फातिमा मुंशी।

    खंडवा/मुंबई.हॉलीवुड मूवी 'लॉयन' 2017 में ऑस्कर अवॉर्ड के लिए नॉमिनेट हुई थी। इस फिल्म की कहानी, जिस शख्स पर बेस्ड है, उसकी मां आज भी शादी और दूसरे फंक्शन में बर्तन मांजने का काम करती है। हम बात कर रहे हैं इंडो-ऑस्ट्रेलियन बिजनेसमैन और ऑथर सारू ब्रिएर्ली की, जो दुर्घटनावश 1987 में पांच साल की उम्र में मां फातिमा मुंशी से बिछड़ गए थे। सारू को एक ऑस्ट्रेलियन कपल ने गोद ले लिया और इसके 25 साल बाद वे अपनी असली मां से मिले थे। यह है मां से बिछड़ने की कहानी...

    - देव पटेल और निकोल किडमन स्टारर फिल्म 'लॉयन' में सारू की रियल लाइफ पर फोकस किया गया है। देव ने फिल्म में सारू और निकोल ने उनकी अडॉप्टेड मां का रोल किया है।
    - सारू की कहानी यह है कि 5 साल की उम्र में सारू अपने बड़े भाई गुड्डू को ढूंढते निकले थे जो खंडवा से करीब 70 किमी. दूर बुरहानपुर स्टेशन पर ट्रेन की सफाई करता था और सिक्के इकठ्ठा करता था।
    - इसी दौरान एक ट्रेन सारू को कोलकाता ले जाती है और उसे अनाथालय में एडमिट करवा दिया जाता है।
    - इस अनाथालय से ही ऑस्ट्रेलियन कपल उन्हें गोद ले लेता है। इधर, मां फातिमा मुंशी ने कई महीनों तक सारू की तलाशने की कोशिश की।मस्जिदों और मजारों पर अर्जी लगाई। लेकिन अपने बेटे को ढूंढ नहीं पाई।

    2012 में ऐसे अपने परिवार तक पहुंचे सारू

    - 2012 में सारू ने फेसबुक पर खंडवा नाम के पेज पर संपर्क किया। इसी से उन्हें पता चला कि उनकी फैमिली इसी शहर के गणेश तलाई इलाके में रहती है। चूंकि, फातिमा अपने बच्चे को ढूंढने के कारण शहर में फेमस हो चुकी थी। इसलिए पेज पर सारू को उनके बारे में जानकारी आसानी से मिल गई।
    - जब बेटे से इस 60 साल की मुलाक़ात हुई तो वह इमोशनल हो गई। बेटे ने मां से पूरी मदद भरोसा दिलाया। लेकिन उसकी लाइफस्टाइल में कोई बदलाव नहीं आया। फातिमा के पड़ोसी कहते हैं कि बेटे के पैसे भेजने के बाद भी फातिमा शादी और दूसरे फंक्शन में बर्तन मांजने का काम करती है।


    फातिमा का क्या है कहना

    - 2017 में एक इंटरव्यू में फातिमा ने कहा था कि 012 में मिलने के बाद 2 शुरुआत में शेरू (सारू का असली नाम) पैसे भेजते थे। लेकिन बाद में उन्होंने पैसा भेजना बंद कर दिया।
    - हालांकि, फातिमा ने यह भी कहा था कि वे अपने बेटे की तरक्की से बहुत खुश हैं।

    आगे की स्लाइड्स में देख सकते हैं फोटोज...

  • बिजनेसमैन बेटे की जिंदगी पर बन चुकी है फिल्म, मां अब भी धोती है शादियों में बर्तन
    +8और स्लाइड देखें
    मां फातिमा के साथ सारू।
  • बिजनेसमैन बेटे की जिंदगी पर बन चुकी है फिल्म, मां अब भी धोती है शादियों में बर्तन
    +8और स्लाइड देखें
    सारू देव पटेल के साथ।
  • बिजनेसमैन बेटे की जिंदगी पर बन चुकी है फिल्म, मां अब भी धोती है शादियों में बर्तन
    +8और स्लाइड देखें
    दोनों मांओं के साथ सारू।
  • बिजनेसमैन बेटे की जिंदगी पर बन चुकी है फिल्म, मां अब भी धोती है शादियों में बर्तन
    +8और स्लाइड देखें
    फातिमा मुंशी।
  • बिजनेसमैन बेटे की जिंदगी पर बन चुकी है फिल्म, मां अब भी धोती है शादियों में बर्तन
    +8और स्लाइड देखें
    बेटे सारू के साथ फातिमा मुंशी।
  • बिजनेसमैन बेटे की जिंदगी पर बन चुकी है फिल्म, मां अब भी धोती है शादियों में बर्तन
    +8और स्लाइड देखें
    मां और खंडवा स्थित पड़ोसियों के साथ सारू।
  • बिजनेसमैन बेटे की जिंदगी पर बन चुकी है फिल्म, मां अब भी धोती है शादियों में बर्तन
    +8और स्लाइड देखें
    मां फातिमा के साथ सारू।
  • बिजनेसमैन बेटे की जिंदगी पर बन चुकी है फिल्म, मां अब भी धोती है शादियों में बर्तन
    +8और स्लाइड देखें
    फातिमा मुंशी।
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: Mother Of This Business Man Still Washes Utensils
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

Trending

Top
×