Home »News» Expressive Eyes And The Mischievous Smile Lit Up The Cinema Screens

बोलती आंखें और रहस्यमयी मुस्कान की मालकिन थीं श्रीदेवी, पुरुषों के दबदबे वाली इंडस्ट्री में 5 दशक तक किया राज

श्रीदेवी ने एक तरह से मेल डॉमिनेटेड फिल्म इंडस्ट्री का ट्रेंड बदला। कई बार फिल्म में उनका होना ही हिट होने की गारंटी होत

DainikBhaskar.com | Last Modified - Feb 25, 2018, 01:08 PM IST

  • बोलती आंखें और रहस्यमयी मुस्कान की मालकिन थीं श्रीदेवी, पुरुषों के दबदबे वाली इंडस्ट्री में 5 दशक तक किया राज
    +3और स्लाइड देखें
    श्रीदेवी का डेब्यू 1978 में सोलहवां सावन से माना जाता है। इसमें उनके हीरो अमोल पालेकर थे। -फाइल

    मुंबई.बॉलीवुड अभिनेत्री श्रीदेवी ने शनिवार रात दुनिया को अलविदा कह दिया। दुबई में कार्डियक अरेस्ट से उनकी मौत हो गई। उनकी आंखें बोलती सी दिखती थीं, उनकी मुस्कान रहस्यमयी थी। इसी ने उन्हें बॉलीवुड की पहली महिला सुपरस्टार बनाया। 5 दशकों के अपने करियर में वे सिल्वर स्क्रीन पर छाई रहीं। पुरुषों का दबदबे वाली फिल्म इंडस्ट्री में 80 और 90 के दशक में श्रीदेवी ने वो मुकाम हासिल किया जो उनसे पहले कोई हासिल नहीं कर पाया।

    श्रीदेवी ने बदला इंडस्ट्री का ट्रेंड

    - श्रीदेवी ने एक तरह से मेल डॉमिनेटेड फिल्म इंडस्ट्री का ट्रेंड बदला। कई बार फिल्म में उनका होना ही हिट होने की गारंटी होता था।
    - रियल लाइफ में वे शर्मीली महिला थीं। लेकिन पर्दे पर उन्होंने कई तरह की भूमिकाएं कीं। उनकी पॉपुलैरिटी का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि उनके फैन्स उनके स्टाइल और डांसिंग स्टेप्स की कॉपी करते थे। मि. इंडिया की कामयाबी के बाद तो उन्हें मिस हवा हवाई का खिताब मिल गया था।

    फिल्म सोलहवां सावन में पहली बार हीरोइन बनीं

    - श्रीदेवी ने फिल्म प्रोड्यूसर बोनी कपूर से 1996 में शादी की थी। दोनों की लव स्टोरी फिल्म मि. इंडिया (1987) की शूटिंग के दौरान से ही शुरू हुई थी।

    - पहला रोल उन्होंने 4 साल की उम्र में एमए थिरुमुगम की फिल्म थुनाईवन में किया। उन्होंने तमिल, तेलुगु, मलयालम और कन्नड़ भाषाओं में भी फिल्में कीं।

    - श्रीदेवी का डेब्यू 1978 में सोलहवां सावन से माना जाता है। इसमें उनके हीरो अमोल पालेकर थे।

    - ऋषि कपूर के साथ उन्होंने नगीना (1986), चांदनी (1989) और गुरुदेव (1993) फिल्में कीं।

    - अमिताभ बच्चन के साथ उन्होंने इंकलाब (1984), आखिरी रास्ता (1986) और खुदा गवाह (1992) में स्क्रीन शेयर किया।

    - 1983 में कमल हासन के साथ आई फिल्म सदमा में उनके किरदार को काफी पसंद किया गया। इस फिल्म में श्रीदेवी को फिल्मफेयर अवॉर्ड मिला।

    - 1989 की चालबाज, 1991 की लम्हें और 1992 में आई खुदा गवाह में वे डबल रोल में नजर आईं। 1996 में उन्होंने शाहरुख खान के साथ आर्मी में काम किया।

    - वे शाहरुख की आने वाली फिल्म जीरो में भी एक स्पेशल अपीयरेंस में नजर आएंगी।

    जीतेंद्र के साथ फिल्में 18 फिल्में कीं
    - श्रीदेवी ने जीतेंद्र के साथ जैसे को तैसा (1973), जस्टिस चौधरी (1983), मवाली (1983), जानी दोस्त (1983), हिम्मतवाला (1983), मकसद (1984), तोहफा (1984), सरफरोश (1985), महागुरु (1985), बलिदान (1985), सुहागन (1986) कीं।
    - दोनों की जोड़ी औलाद (1987), मजाल (1987), अकलमंद (1984), धर्म अधिकारी (1986), आग और शोला (1986), सोने पे सुहागा (1990), घर संसार (1986), हिम्मत और मेहनत (1987) में भी नजर आई।

    अनिल कपूर के साथ की 11 फिल्में

    - अनिल कपूर के साथ श्रीदेवी ने कर्मा (1986), मि. इंडिया (1987), राम अवतार (1988), सोने पे सुहागा (1990), लम्हें (1991), हीरा रांझा (1992), गुरुदेव (1993), रूप की रानी चोरों का राजा (1993), लाड़ला (1994), मिस्टर बेचारा (1996) और जुदाई (1997) जैसी फिल्मों में काम किया।

  • बोलती आंखें और रहस्यमयी मुस्कान की मालकिन थीं श्रीदेवी, पुरुषों के दबदबे वाली इंडस्ट्री में 5 दशक तक किया राज
    +3और स्लाइड देखें
    श्रीदेवी ने तमिल, तेलुगु, मलयालम और कन्नड़ भाषाओं में भी फिल्में कीं। -फाइल
  • बोलती आंखें और रहस्यमयी मुस्कान की मालकिन थीं श्रीदेवी, पुरुषों के दबदबे वाली इंडस्ट्री में 5 दशक तक किया राज
    +3और स्लाइड देखें
    श्रीदेवी ने फिल्म प्रोड्यूसर बोनी कपूर से 1996 में शादी की थी। -फाइल
  • बोलती आंखें और रहस्यमयी मुस्कान की मालकिन थीं श्रीदेवी, पुरुषों के दबदबे वाली इंडस्ट्री में 5 दशक तक किया राज
    +3और स्लाइड देखें
    शाहरुख की आने वाली फिल्म जीरो में भी श्रीदेवी का एक स्पेशल अपीयरेंस होगा। -फाइल
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

Trending

Top
×