Home »News» 77th Death Anniversary Of Rabindranath Tagore Rare Pictures With Lesser Known Facts

यादें शेष: रवीन्द्रनाथ टैगोर की कहानियों पर बनीं 9 से ज्यादा हिन्दी फिल्में, खुद बांग्ला नाटकों में करते थे एक्टिंग

रवीन्द्रनाथ टैगोर के अभिनय वाले 'पोस्ट ऑफिस' की कहानी पर 1965 में एक फिल्म भी बनाई गई, जिसे 'डाकघर' नाम दिया गया।

DainikBhaskar.com | Last Modified - Aug 07, 2018, 02:18 PM IST

  • यादें शेष: रवीन्द्रनाथ टैगोर की कहानियों पर बनीं 9 से ज्यादा हिन्दी फिल्में, खुद बांग्ला नाटकों में करते थे एक्टिंग
    +3और स्लाइड देखें

    बॉलीवुड डेस्क.गुरुदेव रवींद्रनाथ टैगोर की आज 77वीं पुण्यतिथि है। नोबेल अवार्ड विनर रवींद्रनाथ का 7 अगस्त 1941 काे निधन हुआ था। उनकी रचनाओं पर कई फिल्में, गाने और टीवी शो बन चुके हैं। खुद रवींद्रनाथ बांग्ला नाटकों में एक्टिंग भी करते थे। उन्होंने 1881 में पहला नाटक टैगोर मेंशन में अपनी भतीजी के साथ प्ले किया था, जिसका टाइटल था 'वाल्मिकी प्रतिभा'। इसके बाद वे 1912 में एक बार फिर बांग्ला नाटक 'पोस्टमैन' में नजर आए थे।

    किया फिल्म का डायरेक्शन भी :1932 में रिलीज हुई बांग्ला भाषा की फिल्म नातिर पूजा रवींद्रनाथ टैगोर के द्वारा लिखी गई, डायरेक्ट की गई और एक्टिंग वाली पहली और आखिरी फिल्म थी। 1926 में इसे डांस ड्रामा की तरह 4 दिन में शूट किया गया था। जिसकी रिकॉर्डिंग कोलकाता के एनटी स्टूडियो में हुई थी।

    - सिनेमेटोग्राफर सुबोध मित्रा और नितिन बोस ने बेसिक रूल्स काे फॉलो नहीं किया, जिसके कारण यह एक स्टेज ड्रामा की तरह शूट हुई।

    रवीन्द्रनाथ की कहानियों पर बॉलीवुड में बनी फिल्में :गुरुदेव के साहित्य पर बांग्ला के अलावा हिन्दी फिल्में भी बनीं। 1957 में आई फिल्म काबुलीवाला, जिसमें बलराज साहनी थे। 1961 में आई तीन कन्या, रवीन्द्रनाथ की तीन कहानियाें का कोलाज थी। इसके बाद 1964 में चारुलता और 1971 में जया बच्चन को लेकर फिल्म उपहार बनाई गई। इसके बाद 1997 में चार अध्याय, 2003 में ऐश्वर्या राय की फिल्म चोखेर बाली और 2013 में राहुल बोस और कोंकणा सेन के साथ 'द लास्ट पोयम' फिल्म बनाई गई।

    - 1946 में आई दिलीप कुमार की मिलन, चतुरंग, विनोद खन्ना की फिल्म लेकिन, भिखारिन और 2011 में आई कशमकश भी टैगोर की कहानियों पर बेस्ड थीं।

    - दूरदर्शन पर भी रवीन्द्रनाथ की कहानियों पर आधारित एक टीवी सीरीज चलाई गई थी।

  • यादें शेष: रवीन्द्रनाथ टैगोर की कहानियों पर बनीं 9 से ज्यादा हिन्दी फिल्में, खुद बांग्ला नाटकों में करते थे एक्टिंग
    +3और स्लाइड देखें
    20 वर्ष की उम्र में पहली बार नाटक करते रवींद्रनाथ, साथ में हैं उनकी भतीजी इंदिरा देवी जो देवी लक्ष्मी के रोल में हैं।
  • यादें शेष: रवीन्द्रनाथ टैगोर की कहानियों पर बनीं 9 से ज्यादा हिन्दी फिल्में, खुद बांग्ला नाटकों में करते थे एक्टिंग
    +3और स्लाइड देखें
    गुरुदेव रवींद्रनाथ अपनी पत्नी मृणालिनी देवी के साथ।
  • यादें शेष: रवीन्द्रनाथ टैगोर की कहानियों पर बनीं 9 से ज्यादा हिन्दी फिल्में, खुद बांग्ला नाटकों में करते थे एक्टिंग
    +3और स्लाइड देखें
    1941 में निधन से पहले लिया गया रवींद्रनाथ टैगोर का आखिरी फोटो।
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

Trending

Top
×