Home »Parde Ke Peeche» Parde Ke Peeche

गांधीजी, जिन्ना और नेहरू 'बिग बॉस' में होते तो क्या होता?

Jay Prakash Chouksey | Oct 09, 2012, 09:55 AM IST

छोटे परदे पर दिखाया जाने वाला कार्यक्रम ‘बिग बॉस’ (पढ़ें : सिद्धू के शो में जाने को लेकर बीजेपी में विवाद!) दुनिया के पचास देशों में अपने देशज रूपांतरण में विगत दशकों से दिखाया जा रहा है और इसके कॉपीराइट वाली कंपनी है, जो सभी जगह इसे मंचित करती है। अनेक जगह ‘बिग बॉस’ ( प्रतियोगियों के बारे में जानिए) के घर में तीन महीने तक रहने वाले प्रतियोगी भीषण हिंसा और अभद्रता का प्रदर्शन करते हैं तथा कुछ देशों में उन्हें यौन संबंध बनाने की भी स्वतंत्रता होती है। कई जगह यह मनुष्य में छुपे हिंसक, बर्बर जानवर के उजागर होने का कार्यक्रम है। (बिग बॉस के घर के अंदर की तस्‍वीरें देखिए)


भारत में इसे यौन मामलों में स्वतंत्रता नहीं दी गई है,परंतु अभद्र भाषा का प्रयोग और अपमान करने की छूटरही है। यह अलग बात है कि हर बार प्रतियोगिता किसी शालीन व्यक्ति ने ही जीती है। इस तरह बुराई पर अच्छाई की जीत का फॉर्मूला यहां जारी रहा है। (देखें बिग बॉस डे 1 की तस्‍वीरें)


पढ़ें, चौकसे का एक और लेख- विधु विनोद चोपड़ा पर्दे पर उतारेंगे अपनी जिंदगी का प्रेम त्रिकोण

Web Title: parde ke peeche
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

    Next Article

     

    Recommended